एक्सप्रेस वे / बिहार के हिस्से में निर्माण की गति धीमी, 100 किमी की रफ्तार से दिल्ली जाने का सपना कैसे होगा पूरा?

0
95

पटना. सड़क मार्ग से 100 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से पटना से दिल्ली का सफर तय करने का सपना समय पर पूरा होने की उम्मीद कम ही है। पटना-गाजीपुर-लखनऊ-दिल्ली एक्सप्रेस वे का चैनेज (एलाइनमेंट) तो पूरा हो गया है, पर बिहार हिस्से में कोईलवर से बक्सर तक की निर्माण गति काफी धीमी है। यह एक्सप्रेस वे बिहार के बक्सर में प्रवेश कर आरा-कोईलवर होते हुए पटना तक बनेगा।

इसमें कोईलवर से आरा-भोजपुर होते बक्सर तक का एलाइनमेंट फाइनल कर निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। लेकिन, कोईलवर से बिहटा होते हुए पटना तक के एलाइनमेंट में भूमि अधिग्रहण बड़ा पेच था। इससे काम शुरू नहीं हो पा रहा था। अब इसे दानापुर स्टेशन से शिवाला व बिहटा एयरपोर्ट होते हुए कोईलवर मोड़ तक बनाने का निर्णय लिया गया है। डीपीआर बन रहा है। इसी साल टेंडर होने की उम्मीद है। केंद्र की मोदी सरकार ने पहले टर्म में दिल्ली-आगरा-लखनऊ तक बने एक्सप्रेस वे को गाजीपुर होते पटना तक बनाने का निर्णय किया था।

कोईलवर-आरा-भोजपुर हाईवे दो साल में बना मात्र 37% 
सोन नदी के पश्चिमी किनारे कोईलवर से बक्सर तक का निर्माण दो पैकेज में किया जा रहा है। कोईलवर-आरा-भोजपुर तक 44 किलोमीटर हाईवे 2 साल में मात्र 37% बन पाया है। अब तक 30% राशि खर्च कर मात्र 12 किमी सड़क 4 लेन किया जा चुका है। निर्माण लागत 1051 करोड़ है। जुलाई, 2017 में निर्माण शुरू हुआ था और जनवरी, 2020 में पूरा करना है। पर एजेंसी की धीमी निर्माण गति और जमीन अधिग्रहण में लेटलतीफी के कारण इस प्रोजेक्ट के समय पर पूरा होने की उम्मीद नहीं है। इस एलाइनमेंट के लिए कुल 263 हेक्टेयर जमीन की जरूरत है, जिसमें अबतक 65 हेक्टेयर जमीन ही एजेंसी को मिल पाई है।

  • 30% राशि खर्च कर मात्र 12 किलोमीटर सड़क 4 लेन किया जा चुका है अब तक।
  • निर्माण लागत 1051 करोड़ है
  • भोजपुर-डुमरांव-बक्सर हाईवे भी 14 माह में बना मात्र 17%  
    भोजपुर-डुमरांव-बक्सर तक 48 किलोमीटर हाईवे (दूसरा पैकेज) 14 माह में मात्र 17 फीसदी बन पाया है। अबतक 13 फीसदी राशि खर्च कर सिर्फ 8 किलोमीटर सड़क 4 लेन किया जा सका है। कुल निर्माण लागत 868 करोड़ हैं। अप्रैल, 2018 में निर्माण शुरू हुआ था और अक्टूबर, 2020 में पूरा करना है। पर, एजेंसी की धीमी निर्माण गति और जिला प्रशासन द्वारा जमीन अधिग्रहण में देरी के कारण समय पर पूरा होने की उम्मीद खत्म हो गई है। इस एलाइनमेंट के लिए कुल 288 हेक्टेयर जमीन की जरूरत है, जिसमें अबतक 93 हेक्टेयर जमीन ही एजेंसी को मिल पाई है।

    • 13% राशि खर्च कर मात्र आठ किलोमीटर सड़क 4 लेन किया जा चुका है अब तक।
    • निर्माण कार्य 2020 में पूरा होना है।

    पटना-कोईलवर रोड का इसी साल टेंडर होने की उम्मीद

    पटना से कोईलवर रोड का एलाइनमेंट अब फाइनल हो गया है। दानापुर स्टेशन के खगौल आरओबी से शिवाला-बिहटा एयरपोर्ट होते हुए कोईलवर मोड़ तक वर्तमान सड़क पर एलिवेटेड स्ट्रक्चर बनाने का निर्णय कर एलाइनमेंट फाइनल कर दिया गया है। पटना से बिहटा होते सोन नदी के पूर्वी किनारे कोईलवर तक का एलाइनमेंट अधर में लटका हुआ था। कई वर्षों से कुर्जी-मोहम्मदपुर-बिहटा के स्थानीय लोगों ने अपनी खेती वाली जमीन को बचाने की लड़ाई लड़ी। अंतत: केंद्र और राज्य सरकार ने पटना को बिहटा एयरपोर्ट से सीधा और तेज कनेक्टिविटी देने के साथ एलिवेटेड रोड बनाने की मंजूरी दे दिया।

    • 30 किमी वाले इस एक्सप्रेस-वे में 20 किमी एलिवेटेड होगा।
    • इस पूरे हिस्से के निर्माण पर 2100 करोड़ खचै होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here