Thursday, September 16, 2021
Homeराज्यगुजरातगुजरात : हिंसक प्रदर्शन के मामले में कांग्रेस कॉर्पोरेटर समेत 49 गिरफ्तार

गुजरात : हिंसक प्रदर्शन के मामले में कांग्रेस कॉर्पोरेटर समेत 49 गिरफ्तार

अहमदाबाद/पालनपुर. अहमदाबाद के मुस्लिम बाहुल्य शाहआलम इलाके में नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन के सिलसिले में पुलिस ने शुक्रवार तड़के कांग्रेस के एक स्थानीय कॉर्पोरेटर समेत 49 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया।

कुल 26 पुलिसकर्मी घायल हुए
हिंसक घटनाओं और पथराव में पुलिस उपायुक्त और सहायक आयुक्त समेत 26 पुलिसकर्मी घायल हो गये थे। इस संबंध में गुरुवार देर रात ईसनपुर पुलिस स्टेशन में वहां के इंस्पेक्टर जे एम सोलंकी, जो स्वयं भी घायलों में शामिल थे, ने हत्या का प्रयास, बलवा करने, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने तथा सार्वजनिक आदेश का उल्लंघन करने के आरोपों के साथ कुल 50 नामजद और 5000 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। सोलंकी ने बताया कि पकड़े गए लोगों में अहमदाबाद महानगरपालिका में दाणीलीमड़ा इलाके के कांग्रेस कॉर्पोरेटर शहजाद पठान भी शामिल है।

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर की जा रही है गिरफ्तारी
बिना अनुमति के रैली निकाल रही भीड़ को गुरुवार को जब पुलिस ने रोकने का प्रयास किया था तो भीड़ ने जबरदस्त पथराव शुरू कर दिया। बचने के लिए छिप रहे पुलिस वालों पर नजदीक से तेज पथराव किया। जिसके कई सीसीटीवी फुटेज भी वायरल हो गए हैं। इनकी विधि विज्ञान प्रयोगशाला में जांच कर दंगाइयों की गिरफ्तार के प्रयास किए जा रहे हैं। पुलिस को अपनी ही जान बचाने और उग्र भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े थे और लाठी चार्ज करना पड़ा था।

25 से ज्यादा वाहनों से पुलिस का फ्लैग मार्च
अहमदाबाद में पुलिस पर हुए हमले के बाद शुक्रवार को वापी के विविध क्षेत्रों में पुलिस द्वारा फ्लेग मार्च किया गया। 25 से अधिक वाहनों के साथ निकले पुलिस के काफिलों को देखकर लोग आश्चर्यचकित रह गए। पुलिस ने लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की। अहमदाबाद में गुरुवार को सीएए के विरोध में शाहआलम, मिर्जापुर सहित के क्षेत्र में हिंसा में डीसीपी, एसीपी सहित कई पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। वलसाड जिले में कोई अनहोनी घटना ने बने इसके लिए शुक्रवार सुबह एसपी सुनील जोशी की मौजूदगी में वज्र वाहन सहित 25 से अधिक वाहनों के साथ पुलिस ने फ्लैग मार्च किया। वापी के संवेदनशील क्षेत्रों में शामिल छिरी, डुंगरा, डुंगरीफलिया, इमराननगर में पुलिस ने पेट्रोलिंग बढ़ा दी है।

शांति समिति की बैठक
अहमदाबाद सहित देशभर में नागरिकता कानून के विरोध में हो रहे हिंसक प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए खेरगाम पीएसआई जीएस पटेल ने सूरत में गुरुवार रात शांति समिति की बैठक की गई। जिसमें पुलिस ने दोनों समुदायों के लोगों को बुलाकर भाईचारा और शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की। पीएसआई गौरव पटेल की अध्यक्षता में हुई बैठक में हिंदू- मुस्लिम दोनों समाज के गणमान्य लोग उपस्थित रहे। मुस्लिम समाज के प्रमुख फारूख शेख ने क़हा कि वर्षों से खेरगाम में हिंदू- मुस्लिम समाज के लोग शांति और भाईचारे की भावना के साथ रहते आए हैं और आगे भी शांति बनी रही ऐसी युवाओं से अपील की। भाजपा महामंत्री शैलेष टेलर, मुल्तान वोहन सहित हिंदू और मुस्लिम समाज के अग्रणी उपस्थित रहे। पीएसआई ने बताया कि दोनों समाज के लोगों से शांति व्यवस्था रखने की अपील की है।

बनासकांठा जिले में पुलिस पर हमले का प्रयास, 22 नामजद
उधर उत्तर गुजरात के बनासकांठा जिले के छापी में उक्त प्रदर्शन के दौरान भीड़ के पुलिस पर हमले के प्रयास के मामले में भी पुलिस ने 22 नामजद तथा 3000 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यह घटना कांग्रेस समर्थित निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी के विधानसभा क्षेत्र वडगाम में हुई थी। बंद और प्रदर्शनों के समर्थन में मेवाणी ने ट्विट करते हुए पुलिस को घेरे जाने की घटना का भी जिक्र किया था। इस बीच अहमदाबाद समेत राज्य भर में शुक्रवार को शांति का माहौल है। कई जगहों पर पुलिस बल तैनात किया गया है।

गोमतीपुर की कलंदरी मस्जिद के पास दंगे के दिए थे इनपुट
भूतकाल में दंगे या हमले का कोई इतिहास ने होने से जोन- 6 के डीसीपी आहिर ने शाहआलम में अतिरिक्त फोर्स की मांग नहीं की थी। उनका अनुमान गलत साबित हुआ। अहमदाबाद के शाहआलम में हुई हिंसक घटना में आईबी फिर एक बार गलत साबित हुई है। आईबी ने अहमदाबाद पुलिस को गोमतीपुर की कलंदरी मस्जिद के पास होने वाले विरोध प्रदर्शन में हिंसक घटना हो सकती है, ऐसी रिपोर्ट दी थी। जबकि राज्य सरकार ने पुलिस को नेहरूनगर क्षेत्र में होने वाले प्रदर्शन में हमला हो सकता है, ऐसी रिपोर्ट दी थी। इस रिपोर्ट के आधार पर कलंदरी मस्जिद के पास सेक्टर टू के जेसीपी निपुणा तोरवणे, डीसीपी सहित का पुलिस काफिला तैनात किया गया था। और आई की रिपोर्ट के आधार पर ही 5 बजे का कार्यक्रम 4 बजे पुलिस ने शुरू कर दिया था। हजारों की संख्या में एकत्रित हुए लोगों ने नारेबाजी की। इसके बावजूद पुलिस ने संयम से काम लिया और आधे घंटे में ही कार्यक्रम पूरा कर दिया था। जबकि नेहरूनगर क्षेत्र में अतिरिक्त पुलिस फोर्स तैनात किया गया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments