यमुनानगर जिला में 5 हजार गाय लंपी स्किन रोग से हुई प्रभावित

0
12

हरियाणा के कई जिलों में गायों में लंपी स्किन बीमारी फैल चुकी है। सबसे ज्यादा यमुनानगर जिला प्रभावित है। उसके बाद सिरसा में काफी संख्या में गाय इस रोग से ग्रसित हैं। जिसके बाद पशुपालन विभाग ने अलर्ट घोषित किया है। वहीं पशु पालन मंत्री जेपी दलाल ने भी विभाग को जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।यमुनानगर के ग्रामीण क्षेत्र के अलावा शहरी इलाकों में भी गाय इस बीमारी से पीड़ित हैं। जिसके चलते पशुपालक परेशान हैं। वह अपने अन्य पशुओं को इस बीमारी से बचाव के लिए अन्य स्थानों पर ले जा रहे हैं। ग्रामीण इलाकों में इस बीमारी का सर्वाधिक प्रभाव देखने को मिला है। इसी को देखते हुए सोमवार को पशुपालन विभाग के डायरेक्टर जनरल डॉक्टर बीएस लौरा ने यमुनानगर के विभिन्न इलाकों का दौरा किया।

उन्होंने यहां पशुपालकों और विभाग के डॉक्टरों से भी मुलाकात की। उन्होंने बताया कि यमुनानगर जिला में 4 हजार से 5 हजार के बीच में गाय लंपी स्किन रोग से प्रभावित हुई हैं। इसके चलते और कुछ अन्य कारणों से 3 पशुओं की मौत भी हुई है। बीमारी को काबू करने के लिए विभाग द्वारा सभी कदम उठाए जा रहे हैं।डॉक्टर बीएस लौरा ने कहा कि यमुनानगर में यह रोग सबसे अधिक है, इसलिए यहां डॉक्टरों की विभिन्न टीमें तैनात की गई हैं। प्रभावित गायों का इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पशुओं से संबंधित यह बीमारी इंसान में नहीं फैलती, इसलिए इससे दहशत में आने की जरूरत नहीं है। गाय का दूध उबालकर पिएं। बच्चों को भी उबाल कर दूध दें।

उन्होंने कहा कि इस रोग से प्रभावित गाय को बुखार होता है। जिसके बाद उसका दूध कम हो जाता है। चार-पांच दिन बुखार आता है। इसके बाद बुखार कम हो जाना शुरू हो जाता है। जिसके बाद धीरे-धीरे दूध भी बढ़ने लगता है। इस बीमारी से बचाव के लिए कुछ प्राइवेट कंपनियों द्वारा इंजेक्शन मार्केट में लाए गए हैं। उन्होंने कहां की जिन पशुओं को यह बीमारी है उन्हें इसके बचाव के लिए वैक्सीनेट नहीं किया जा सकता, क्योंकि इससे बीमारी और बढ़ने का खतरा रहेगा। उन्होंने पशु चिकित्सकों को कहा कि वह बीमारी प्रभावित एरिया के पशुओं को इंजेक्शन ना लगाएं। पशुपालन विभाग के डायरेक्टर जनरल का कहना है कि यह बीमारी हरियाणा के साथ लगते राजस्थान व पंजाब से आई हो सकती है। हरियाणा के सभी जिलों के डीसी और एसपी को निर्देश दिए गए हैं कि पशुओं को वह बॉर्डर क्रॉस होने से रोके। कोई भी पशु एक से दूसरे राज्य में ना जा पाए, इसकी व्यवस्था की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here