Friday, September 24, 2021
Homeटॉप न्यूज़समय पर GTB अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाकर 500 मरीजों की बचाई...

समय पर GTB अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाकर 500 मरीजों की बचाई जान

कोरोना वायरस संक्रमण का कहर इस कदर है कि लोग अपनी जान गंवा रहे हैं, लेकिन वहीं मरीजों की सांसों की डोर न टूटे, इसकी हरसंभव कोशिश भी की जा रही है। इसी कड़ी में पूर्वी दिल्ली के गुरु तेग बहादुर अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के चलते 500 कोरोना पीड़ित मरीजों की सांसों की डोर न थमे, इसलिए समय पर ऑक्सीजन टैंकर पहुंचाकर सभी की जान बचाई गई। इससे पहले मंगलवार शाम को जानकारी सामने आई थी कि  जीटीबी अस्पताल में भर्ती सैकड़ों मरीजों की हालत गंभीर है। इसी बीच यह भी खबर आई थी कि करीब 500 कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन की दिक्कत आ सकती है। कहा गया था कि कुछ ही घंटों के लिए ऑक्सीजन शेष है।

पूर्वी दिल्ली के गुरु तेग बहादुर अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के चलते 500 कोरोना पीड़ित मरीजों सांसों की डोर न थमे इसलिए समय पर ऑक्सीजन टैंकर पहुंचाकर सभी की जान बचाई गई।

वहीं, जीटीबी में 500 कोरोना मरीजों के हालात के मद्देनजर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने ट्वीट कर केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल से मदद मांगी थी।  सत्येंद्र जैन ने ट्वीट किया था- ‘जीटीबी अस्पताल में ऑक्सीजन की बेहद कमी है। ऐसे में ऑक्सीजन 4 घंटे से अधिक नहीं चल सकती है। ऑक्सीजन के इंतजार में 500 से अधिक कोरोना रोगी हैं। प्लीट मदद करें।’

बताया जा रहा है कि इसके कदम उठाते हुए जीटीबी अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाकर सभी 500 कोरोना मरीजों की जान बचाई गई।

जीटीबी अस्पताल से कोरोना संक्रमित महिला लापता, अगले दिन मोर्चरी में मिला शव

वहीं, पिछले दिनों जीटीबी अस्पताल से एक कोरोना संक्रमित महिला लापता हो गई थी। उनके स्वजन काफी परेशान थे। स्वजन अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगा रहे थे। अस्पताल से उन्हें कोई नहीं बता पा रहा कि महिला कहां चली गई थी। वहीं, अगले दिन उसका शव मोर्चरी में मिला। दरअसल, झिलमिल इलाके की रहने वाली 53 वर्षीश् सुमन वर्मा को उनके पति कमल वर्मा 15 अप्रैल को जीटीबी अस्पताल लेकर गए थे। उन्हें तेज बुखार था। कोरोना जांच में उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। उसके बाद उन्हें अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती कर लिया गया था। इसके बाद उसके लापता होने की खबर आई थी, लेकिन अगले दिन उसका शव मोर्चरी में मिला था।

कमल वर्मा ने बताया था कि शुक्रवार रात डेढ़ बजे उन्होंने आखिरी बार अपनी पत्नी को अस्पताल में देखा था। उसके बाद से सुमन लापता थी। अस्पताल प्रशासन से कई बार पूछा कि वह कहां हैं, कोई कुछ बताने को तैयार नहीं था। कमल वर्मा ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रशासन कोरोना मरीजों के इलाज में लापरवाही बरत रहा है। उनकी पत्नी को ठीक से खाना भी नहीं दिया जा रहा था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments