Saturday, September 25, 2021
Homeमध्य प्रदेशदोस्त के मरते ही हड़प लिए 62 लाख

दोस्त के मरते ही हड़प लिए 62 लाख

एनआरआई दोस्त को जमीन बेचने का अनुबंध कर एक जालसाज ने 62 लाख रुपए हड़प लिए। सौदा 70 लाख रुपए में हुआ था। रजिस्ट्री से पहले एनआरआई दोस्त का एक्सीडेंट में मौत हो गई। इसके बार उसके पारिवारिक दोस्त ने रंग दिखाया। 73 वर्षीय एनआरआई दोस्त की बेबस व लाचार विधवा मां को रजिस्ट्री करने से मना कर दिया। आरोपी ने पैसे भी देने से मना कर दिया। परेशानी होकर बुजुर्ग महिला ग्वारीघाट पहुंची और आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी व धमकी देने का मामला दर्ज कराया।ग्वारीघाट पुलिस के मुताबिक ब्यौहारबाग पेट्रोल पंप के पीछे बेलबाग निवासी कामना मुखर्जी ने पंचशील नगर गोरखपुर निवासी अशोक बत्रा से पोलीपाथर स्थित 3.34 एकड़ जमीन खरीदने का अनुबंध किया था। साथ में रमेश मनोचा भी इस अनुबंध में शामिल थे। 54 लाख रुपए उन्होंने अनुबंध के समय ही दे दिए। पूरा सौदा 70 लाख रुपए में तय हुआ था। इसके बाद भी अशोक बत्रा विभिन्न तारीखों में जरूरत बता 8 लाख रुपए और ले लिए गए। पर अशोक बत्रा ने कभी भी अनुबंध का पालन नहीं किया। वह उनसे लिए पैसे से अपना घर व गाड़ी खरीद कर उपयोग कर रहा है। वह विधवा है। उसके बड़े बेटे अनुपम मुखर्जी का निधन 18 दिसंबर 2020 में हो गया।

बेटे की मौत के बाद बदल गया सुर

पीड़िता कामना मुखर्जी के मुताबिक बेटे की मौत के बाद अशोक बत्रा का सुर बदल गया। विधवा व निर्बल समझ कर वह धमकाने लगा। उसने अनुबंध पत्र की अवधि समाप्त होने के बावजूद न तो नया अनुबंध किया और न ही रजिस्ट्री किया। वह पैसे भी नहीं वापस कर रहा है। आरोपी धमकी देता है कि न तो जमीन देगा और न ही पैसे लौटाएगा, जो करना है कर लेना।

बेटे का दोस्त बनकर दिया दगा

पीड़िता कामना मुखर्जी के मुताबिक उसका बेटा विदेश में रहता था। जबलपुर में उसकी अशोक बत्रा से दोस्ती थी। पारिवारिक दोस्त बनकर उसने बेटे को जमीन दिखाई थी और फिर इसका सौदा किया था। अकेले 50 लाख उसने और 12 लाख रुपए रमेश मनोचा ने दिए थे। पर बेटे की मौत के बाद आरोपी अशोक बत्रा पैसे व जमीन दोनों हड़प लेना चाहता है। ग्वारीघाट पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी, अमानत में ख्यानत और धमकी देने का प्रकरण दर्ज कर लिया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments