Saturday, September 18, 2021
Homeराज्यगुजरातनाइट कर्फ्यू की दहशत:घर पहुंचने की जल्दबाजी में बढ़े हादसे, रात 8...

नाइट कर्फ्यू की दहशत:घर पहुंचने की जल्दबाजी में बढ़े हादसे, रात 8 से 9 के बीच हादसों में अब तक 9 की मौत, रोज औसतन 23 एक्सीडेंट हो रहे

कर्फ्यू से 1 घंटे पहले लग रहा जाम लग रहा जगह-जगह जाम।
  • एंबुलेंस के लिए 20 से अधिक मामले ऐसे आते हैं, जिनमें मरीज को अस्पताल पहुंचाना पड़ता है
  • रोज छोटे-बड़े औसतन 60 एक्सीडेंट होते थे। अब रोज औसतन 82 से 84 छोटे-बड़े एक्सीडेंट हो रहे

नाइट कर्फ्यू से पहले घर पहुंचने की जल्दबाजी में लोग जान दांव पर लगा रहे हैं। यही कारण है कि रात 8 से 9 बजे के बीच एक्सीडेंट के मामले बढ़ गए हैं। इस एक घंटे की समय अवधि में औसतन 23 एक्सीडेंट रोज हो रहे हैं। फिलहाल हम बात कर रहें हैं गुजरात के सूरत शहर की, जहां इस दौरान पिछले 13 दिनों में एक्सीडेंट में 9 लोग जान भी गंवा चुके हैं। नाइट कर्फ्यू से पहले रात 8 से 9 बजे तक औसतन 10 से 13 हादसे होते थे। रात में हो रहे एक्सीडेंट की इस संख्या से दिन भर में होने वाले हादसों की संख्या में भी इजाफा हुआ है।

एक्सीडेंट के मामले 128 प्रतिशत तक बढ़े
पहले रोज छोटे-बड़े औसतन 60 एक्सीडेंट होते थे। अब रोज औसतन 82 से 84 छोटे-बड़े एक्सीडेंट हो रहे हैं। इस साल नवंबर तक एक्सीडेंट में 141 लोगों की जान गई। वहीं पिछले साल नवंबर तक 253 लोगों की जान गई थी। हालांकि 2019 में 276 लोगों की जान गई थी। ये आंकड़े पुलिस, सिविल और स्मीमेर अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार हैं। शहर में पिछले 13 दिनों से नाइट कर्फ्यू लागू है। इसमें रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक लोगों को बाहर निकलने से मना किया गया है।

अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा और राजकोट में लगा हुआ है रात 9 से सुबह 6 बजे तक का कर्फ्यू।
अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा और राजकोट में लगा हुआ है रात 9 से सुबह 6 बजे तक का कर्फ्यू।

80 फीसदी मामले बाइक के
अभी एक्सीडेंट के जो मामले आ रहे हैं, उनमें से 80% बाइक के होते हैं। रोजाना 108 एंबुलेंस के लिए 20 से अधिक मामले ऐसे आते हैं, जिनमें एक्सीडेंट के मरीज को अस्पताल पहुंचाना पड़ता है। सिविल और स्मीमेर अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार वीकेंड में सबसे ज्यादा एक्सीडेंट के मामले आते हैं। शनिवार और रविवार की रात देर शाम यानी 24 से 30 घंटे में 80 से अधिक एक्सीडेंट होते हैं।

कर्फ्यू से ट्रैफिक बढ़ा है
डीसीपी ट्रैफिक प्रशांत दुबे ने बताया कि मैंने बुधवार को टीमों को ट्रैफिक नियम का सख्ती से पालन कराने का आदेश दिया है। शाम 7 से 9 बजे तक वैसे भी पीक ऑवर होता है। नाइट कर्फ्यू से ट्रैफिक थोड़ा और बढ़ गया है, क्योंकि लोग 9 बजे से पहले घर पहुंचना चाहते हैं। एक्सीडेंट हो रहे हैं या नहीं। इस बारे में जानकारी हम तक नहीं आ रही है।

कर्फ्यू से 1 घंटे पहले लग रहा जाम
नाइट कर्फ्यू के दौरान बाहर निकलने वालों पर आईपीएस की धारा 188 के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। इससे कर्फ्यू के एक घंटे पहले सड़कों पर जाम लग रहा है। जल्दी घर पहुंचने के चक्कर में लोग अफरा-तफरी मचा रहे हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments