Tuesday, September 28, 2021
Homeछत्तीसगढ़लापरवाही : आदिवासी कन्या आश्रम में रात का खाना खाने के बाद...

लापरवाही : आदिवासी कन्या आश्रम में रात का खाना खाने के बाद 12 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी, एक गंभीर

पेंड्रा. मरवाही विकासखंड के ग्राम बेलझिरिया के कमला नेहरू आदिवासी कन्या आश्रम में प्रबंधन की लापरवाही से फिर एक बार 12 बच्चियां उल्टी और बुखार की पीड़ा झेल रही हैं। सभी को मरवाही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां एक छात्रा की हालत गंभीर होने पर उसे सिम्स रेफर कर दिया गया। छात्रा का इलाज सिम्स में चल रहा है। हाल ही में एक सप्ताह पहले इसी आश्रम में उल्टी और बुखार से एक छात्रा की मौत हो गई थी।

छात्राओं को होने लगा पेट दर्द, सिर दर्द और उल्टी

  1. बिलासपुर जिला मुख्यालय से 160 किलोमीटर की दूरी पर आदिवासी बाहुल्य मरवाही विकासखंड का ग्राम बेलझिरिया स्थित है। जहां के कन्या आश्रम में बुधवार की रात अचानक खाना खाने के बाद एक दर्जन बच्चियों को एक साथ पेट और सिर में तेज दर्द उठा और उल्टी होने लगी जिसके बाद सभी को रात 10 बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मरवाही में भर्ती कराया गया। छात्राओं को अस्पताल में भर्ती करते ही डॉक्टरों ने तत्काल उनका इलाज शुरू कर दिया। 10 वर्षीय मानमती की हालत ज्यादा गंभीर होने के कारण उसे सिम्स रेफर किया गया है।
  2. इससे पहले प्राथमिक उपचार के बाद उसे सेनेटोरियम पेंड्रारोड रेफर किया गया, जहां उसकी हालत में सुधार नहीं हो पा रहा था। अन्य 11 छात्राओं का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मरवाही में किया गया। जिनमें से 5 छात्राओं की हालत में सुधार होने के बाद गुरुवार की शाम को उन्हें वापस आश्रम भेज दिया गया जबकि 6 छात्राओं की हालत में सुधार नहीं होने के कारण उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ही डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया है।
  3. दो छात्राएं मलेरिया से पीडि़त

    रात को सिर दर्द, उल्टी एवं बुखार से जो छात्राएं पीड़ित हुई हैं उनमें मानमती पिता कलम साय 10 वर्ष, प्रियंका पिता प्रेमसाय 10 वर्ष, सुनीता पिता परमजीत 11 वर्ष, सविता पिता राम भजन 10 वर्ष, राजकुमारी पिता राजू 9 वर्ष, प्रीति पिता उज्जैन 8 वर्ष, चंद्रिमा पिता द्वार साय 9 वर्ष, श्रीदेवी पिता दूजे प्रकाश 8 वर्ष, उर्मिला पिता सहदेव 10 वर्ष, लक्ष्मी पिता नसीम कुमार 9 वर्ष, नीता पिता राम प्रसाद 8 वर्ष एवं गायत्री 10 वर्ष शामिल हैं। जांच के बाद छात्राओं में से 2 छात्राओं को मलेरिया से पीड़ित पाया गया है।

  4. कलेक्टर के कहने पर एसडीएम ने की आश्रम की जांच, सफाई के निर्देश

    कलेक्टर डॉ.संजय अलंग ने एसडीएम मनोज केशरिया और सहायक आयुक्त आदिवासी रेशमा खान को आश्रम लेकर जायजा लेने के निर्देश दिए। दोनों आश्रम गए। एसडीएम केशरिया ने वहां स्वच्छ पेयजल व साफ-सफाई रखने का निर्देश दिया। सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग ने बताया कि अस्पताल में भर्ती बच्चियों में से दो को मलेरिया है और दो को मौसमी बुखार है। अन्य 6 बालिकाओं के स्वास्थ्य में दवा देने के बाद सुधार आया है। उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। एक बालिका को सिम्स रेफर किया गया है। बालिका की स्थिति स्थिर है। मामले में प्रशासन की नजर है, जल्द ही सभी बच्चे स्वस्थ हो जाएंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments