Friday, September 24, 2021
Homeराजस्थान21 वेयर हाउस को कृषि उपज मंडी सबयार्ड का दर्जा

21 वेयर हाउस को कृषि उपज मंडी सबयार्ड का दर्जा

आसपास के करीब 50 हजार किसानों एवं व्यापारियों के लिए अच्छी खबर है। राज्य सरकार ने खरीफ सीजन से कृषि मंडियों की तर्ज पर अब एक ही छत के नीचे वेयर हाउस में किसान एवं व्यापारियों को कृषि जिंसों की बिक्री, भंडारण एवं कारोबार की सुविधा उपलब्ध करवाने की पूरी तैयारी कर ली है। उप शासन सचिव ब्रज गुप्ता ने कोटपूतली सहित प्रदेश के 21 वेयर हाउस को कृषि उपज मंडी सब यार्ड का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी किए है।

इनमे जयपुर जिले में चौंमू, कोटपूतली, सीतापुरा प्रथम, सीतापुरा द्वितीय शामिल है। इन वेयर हाउस में किसान एवं व्यापारी मंडियों की तरह उपज जरूरत के अनुसार भंडारण कर अच्छे दामों में बेच एवं खरीद सकेंगे। यदि वेयर हाउस प्रबंधन चाहे तो खरीफ सीजन से ही किसान एवं व्यापारियों के मंडी सब यार्ड की सुविधा उपलब्ध करवाई जा सकती है।

मंडी सब यार्ड शुरू होने के बाद किसानों को मिलेंगे ये फायदे

सस्ते भावों की स्थिति में किसान अपनी उपज को वेयर हाउस में स्टॉक कर मार्केट में अच्छे भावों में बेच सकेंगे। जिससे परिवहन लागत कम आएगी। साथ एक ही छत के नीचे भंडारण की सुविधा मिल सकेगी। व्यापारी उपज खरीदने के बाद मुनाफे के लिए कृषि जिंस का मंडी सबयार्ड में लंबे समय तक स्टॉक कर सकेंगे।

इससे व्यापारियों के लिए कृषि जिंसो का कारोबार आसान रहेगा। वेयर हाउस में सरकार खरीद केन्द्र भी शुरू कर सकेगी। जिससे किसानों को समर्थन मूल्य केन्द्र की सुविधा मिल सकेगी।

कोटपूतली के वेयर हाउस में कर सकेंगे 10 हजार मीट्रिक टन भंडारण

कोटपूतली वेयर हाउस की भंडारण क्षमता साढ़े 21 हजार मीट्रिक टन मानी जा रही है। ऐसे में वेयर हाउस में साढ़े 21 हजार मीट्रिक टन कृषि जिंसो का स्टॉक किया जा सकेगा। इस संबंध में राज्यमंत्री राजेन्द्र सिंह यादव का कहना है कि वेयर हाउस में कृषि मंडी में सबयार्ड शुरू होने से मार्केट में भावों को लेकर प्रतिस्पर्धा भी बढ़ेगी, क्योंकि किसान मंडी की स्थिति में उपज को लंबे समय तक वेयर हाउस में भंडारण कर सकेंगे। ओपन मार्केट में कृषि जिंसो की आवक संतुलित रहेगी तो भावों में भी मजबूती आएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments