अमृतसर : पाकिस्तान से नमक की बोरियों में आई 640 किलो हेरोइन पकड़ी, दो हिरासत में

0
105

अमृतसर. कस्टम विभाग ने अमृतसर वाघा बार्डर के जरिये अफगानिस्तान से नमक की बोरियों में छिपाकर भेजी गई करीब 640 किलो हेरोइन पकड़ी है। यह नमक की कंसाइनमेंट अमृतसर के एक व्यापारी ने मंगवाई थी। मामले में दो व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया है। इंटरनेशनल मार्केट में पकड़ी हेरोइन की कीमत 3200 करोड़ रुपए है। यह खेप आज तक देश में पकड़ी गई हेरोइन की तमाम खेप में से सबसे बड़ी है।

कस्टम विभाग की अब तक की जांच में पता चला है कि अमृतसर के हुसैनपुरा स्थित कनिष्क इंटरप्राइजज के मालिक रुपिंदर सिंह ने यह नमक मंगवाया था। पाक से पहुंचे नमक की गाड़ियों में यह सामान पाक के एक्सपोर्टर ग्लोबल विजिन इंपेक्स ने भेजा था। शनिवार को सुबह व्यापारी का कारिंदा इसे रिसीव करने आया तो उसकी हरकतों पर कस्टम अधिकारियों को संदेह हुआ। जब ट्रक से नमक की बोरी खोली गई तो उसमें से एक-एक किलो के पाउडर के पैकेट नीचे गिरे।

जांच करने पर यह हेरोइन पाई गई जो सीधे अफगानिस्तान से मंगवाई गई है। जिस तरीके से यह खेप मंगवाई थी और पकड़ी गई, इससे अंदेशा होता है कि इससे पहले भी क्विंटलों के हिसाब से यहां से हेरोइन की खेप मंगवाई गई होगी। कस्टम अधिकारी यह भी जांच कर रहे हैं कि इस व्यापारी ने इससे पहले कितनी बार पाक से नमक मंगवाया है।
26 जून को आईसीपी पहुंचा था ट्रक, रिसीव करते समय खुला भेद
पाक के एक्सपोर्टर ने अमृतसर के एक इंपोर्टर के नाम 26 जून को नमक की एक गाड़ी आईसीपी अटारी पर भेजी थी। गाड़ी में नमक के करीब 600 बैग थे। यह सामान आईसीपी के गोदाम में दो दिन तक पड़ा रहा। शनिवार की सुबह को कनिष्क इंटरप्राइजेज का एजेंट नमक की कंसाइनमेंट को रिलीज करवाने आईसीपी पहुंचा था। कस्टम अधिकारियों को इस एजेंट पर कुछ शक हुआ। उन्होंने कुछ बोरियों को खोल कर जांचा तो वह हेरोइन निकली। धीरे-धीरे यह आंकड़ा बढ़ता ही चला गया। पैकेट मिलने का सिलसिला रात तक ही चलता रहा। आईसीपी पर तैनात अधिकारियों ने तुरंत इसकी सूचना कस्टम कमिश्नर दीपक कुमार गुप्ता को दी तो उन्होंने तुरंत जॉइंट कमिश्नर डा. अरविंद कुमार को वहां भेज दिया।
पिछले साल भी पाक से आने वाले सामान में छिपाकर आई थी हेरोइन
बाघा बार्डर से जरिए पाक से होने वाले व्यापार की आड़ में पिछले साल भी पाक से आए सामान के ट्रकों में हेरोइन होने की सूचना मिली थी। मगर जब कस्टम अधिकारी उसे पकड़ नहीं पाए तो काउंटर इंटेलीजेंस ने ट्रक के गेयर बॉक्स को खोलकर उसमें से 20 पैकेट हेरोइन निकाली थी। इस बार मिली 640 किलो हेरोइन की खेप ने कस्टम के साथ तमाम सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है।

साल 2000 में भी मिली 55 किलो हेरोइन की खेप ने चौंकाया था
पंजाब में एक साथ हेरोइन की सबसे बड़ी खेप साल 2000 में तरनतारन के तस्कर अमोलक सिंह से पकड़ी गई थी। इस घटना ने भी पुलिस व सुरक्षा एजेंसियों को चौका दिया था, क्योंकि उस समय हेरोइन का कोई नाम भी नहीं जानता था। वह कंसाइनमेंट भी इंटरनेशनल लेवल पर जानी थी। 640 किलो हेरोइन की कंसाइनमेंट पकड़ी गई है, इसे पंजाब नहीं बल्कि इंटरनेशनल स्तर पर ही खपाया जाना था।

आईएसआई के हाथ होने का अंदेशा… इतनी बड़ी खेप पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की मदद के बिना आना संभव नही है। कस्टम मंत्रालय समेत सभी खुफिया एजेंसियां अंतर्राष्ट्रीय रैकेट की संलिप्तता को लेकर सक्रिय हो गई हैं कि इतना नशा कहां-कहां खपाया जाना था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here