Sunday, September 19, 2021
Homeमहाराष्ट्रवर्धा : महिला लेक्चरर की मौत से गुस्साए लोगों ने किया चक्का...

वर्धा : महिला लेक्चरर की मौत से गुस्साए लोगों ने किया चक्का जाम, व्यापारियों ने बंद की दुकानें; आरोपी को फांसी की मांग

नागपुर. महाराष्ट्र के वर्धा जिले में जिंदा जलाई गई महिला लेक्चरर ने तकरीबन 8 दिनों तक जिंदगी और मौत से जूझने के बाद सोमवार सुबह दम तोड़ दिया। उसकी मौत के बाद नाराज परिजनों और स्थानीय लोगों ने वर्धा के हिंगणघाट इलाके में नागपुर-हैदराबाद हाईवे जाम कर दिया। नाराज लोग आरोपी को फांसी देने की मांग कर रहे थे। यह प्रदर्शन तकरीबन 3 घंटे तक चला और आखिरकार पुलिसवालों के समझाने के बाद सड़क जाम खत्म किया गया।

लेक्चरर अंकिता पिसुड्डे का विकेश नगराले (27) नाम का शख्स काफी समय से पीछा कर रहा था और तीन फरवरी को उसने अंकिता को आग के हवाले कर दिया था। इसमें वह 40 प्रतिशत जल गई थीं। उनका नागपुर के ऑरेंज सिटी हॉस्पिटल ऐंड रिसर्च सेंटर में इलाज चल रहा था।

हिंगणघाट में नाराज व्यापारियों ने दुकाने बंद की
अंकिता की मौत के बाद उनके पिता ने आरोपी को तुरंत फांसी देने की मांग करते हुए कार्रवाई नहीं होने पर आमरण अनशन पर बैठने की बात कही है। अंकिता की मौत से नाराज हिंगणघाट के दुकानदारों ने आज अपनी दुकाने और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद करने की बात कही है।

राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं की प्रतिक्रिया

इस घटना को लेकर राजनीतिक दलों के नेताओं ने भी प्रतिक्रिया दी है। इस मामले में महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘आरोपी को जल्द से जल्द सजा मिलेगी। ऐसा प्रयास राज्य सरकार की ओर से किया जाएगा। नागरिकों को संयम बरतना चाहिए। इस मामले में कड़ी कार्रवाई होगी।’  महाराष्ट्र की महिला एवं बाल विकास मंत्री यशोमति ठाकुर ने कहा,’एक बहादुर बेटी का जाना बेहद दुखद है। देश में आज फिर एक निर्भया का निधन हुआ है। हम पूरी कोशिश करेंगे कि दोषी को कड़ी से कड़ी सजा मिले।’

राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि यह पूरा मामला फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा और आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने का प्रयास सरकार की ओर से किया जाएगा।

वहीं इस मामले में बारामती से सांसद सुप्रिया सुले ने कहा है, ‘यह अत्यंत दुखद है..आखिरकार हिंगणघाट प्रकरण में युवती की मृत्यु हो गई है। मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में होगी। सरकार ठोस प्रयास कर रही है कि पीड़िता को न्याय मिले। बेटी को भावपूर्ण श्रद्धांजली। उसके परिवार के दुःख में मेरी सहभागिता है।’

नागपुर के हॉस्पिटल पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम
इस बीच किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए नागपुर के अस्पताल के आसपास कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। सोमवार सुबह 7.43 बजे अस्पताल की ओर से जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया कि आग में अंकिता बुरी तरह झुलस गई थीं और आज उन्होंने दम तोड़ दिया। शुक्रवार देर रात से वह वेंटिलेटर पर थीं।

हिंगणघाट में भी बढ़ाई गई सुरक्षा
हिंगणघाट के पुलिस निरीक्षक (एसआई) सत्यवीर बंडीवार ने बताया, ‘डॉक्टरों ने आज सुबह छह बजकर 55 मिनट पर उन्हें मृत घोषित कर दिया। अंकिता की मौत के बाद किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए अस्पताल के आसपास सुरक्षा एहतियातन कड़ी कर दी गई है।’

उज्जवल निकम को नियुक्त किया गया सरकारी वकील
अंकिता ने बॉटनी में पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री ली थी और वह अपनी बीएड डिग्री पूरी करने वाली थी। अंकिता के रिश्तेदारों के अनुसार आरोपी नगराले पिछले कुछ समय से अंकिता को परेशान कर रहा था। घटना के कुछ घंटे बाद ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया था। अभी नगराले वर्धा जेल में बंद है। अब उसके खिलाफ हत्या की धारा भी जुड़ेगी। राज्य सरकार ने इस मामले में जाने-माने वकील उज्ज्वल निकम को इस मामले में विशेष सरकारी वकील नियुक्त किया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments