Friday, September 17, 2021
Homeमध्य प्रदेशमप्र : कारोबारी जीतू सोनी का एक और बंगला जमींदोज, बगीचे-मंदिर समेत...

मप्र : कारोबारी जीतू सोनी का एक और बंगला जमींदोज, बगीचे-मंदिर समेत 10 हजार फीट जमीन पर कब्जा कर रखा था

इंदौर. मानव तस्करी समेत 32 से ज्यादा मामलों में फरार इनामी जीतू सोनी के अवैध कब्जों को धराशाई करने की कार्रवाई जारी है। सोमवार को नगर निगम की टीम ने खजराना स्थित शांतिकुंज कॉलोनी में 2000 वर्ग फीट पर बने बंगले को जमींदोज कर दिया। इसके साथ ही टीम ने बगीचे-मंदिर समेत 10 हजार फीट जमीन को कब्जे से मुक्त कराया। यह कार्रवाई 2 घंटे में पूरी की गई। इससे पहले 5 दिसंबर को 7 हजार फीट में बने घर जग विला और तीन होटल को ध्वस्त किया गया था।

जेसीबी की सहायता से दो घटें में बंगला ध्वस्त।

नगर निगम की टीम सुबह 6 बजे जीतू सोनी के बंगले को ध्वस्त करने शांतिकुंज कॉलोनी पहुंची। यहां टीम ने जेसीबी की सहायता से बगीचे की जमीन पर बनाई गई कोठी को ढहा दिया। 2 हजार फीट में बना बंगला देखते ही देखते मलबे में तब्दील हो गया। राज्य शासन के आदेश पर नगर निगम और जिला प्रशासन द्वारा मिलकर जीतू सोनी के अवैध निर्माण को तोड़ने का अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत पिछले दिनों निगम ने चार स्थानों पर एक साथ कार्रवाई कर निर्माण तोड़े थे। इसमें जीतू का बंगला जग विला, होटल वेस्ट वेस्टर्न, माय होम और होटल ओटू शामिल है। हालांकि होटल वेस्ट वेस्टर्न में कोर्ट के आदेश के बाद कार्रवाई को रोक दिया गया था। अपर आयुक्त रजनीश कसेरा के नेतृत्व में नगर निगम की चार टीमें बनाई गईं। इसके बाद चार जेसीबी, पोकलेन मशीन के साथ ही 60 लोगों की टीम से बंगले को ध्वस्त करने की कार्रवाई शुरू की।

एमआर 11 पर परिचित के यहां रुका था जीतू
जीतू सोनी काे पुलिस मुंबई और कोलकाता समेत चार स्थानों पर तलाश रही है। इसी बीच सामने आया कि माय होम में छापे के कुछ देर पहले ही जीतू वहां से निकला और एमआर-11 की एक कॉलोनी में परिचित के यहां रुका था। जीतू के खिलाफ धोखाधड़ी का एक ओर केस दर्ज हुआ है। इसे मिलाकर जीतू पर 33 केस दर्ज हो चुके हैं। सूत्रों से यह भी पता चला है कि जल्द ही एसपी और एएसपी रैंक के कुछ अफसरों के भी तबादले संभावित हैं। दअरसल, सीएम ने इंटेलिजेंस से रिपोर्ट तैयार करवाई है कि भूमाफियाओं या अपराधियों से कौन-कौन से अफसर जुड़े हैं।

कुछ ही देर में बंगले की जगह बस मलबा नजर आने लगा।

24 युवकों सहित 35 आरोपियों को भेजा
होटल माय होम से देह व्यापार में सहयोग करने के आरोप में गिरफ्तार 24 युवकों सहित 35 आरोपियों को कोर्ट ने जेल भेज दिया गया है। ये 24 युवक वह हैं, जिन्होंने कोर्ट में खुद को कुछ महिलाओं का पति बताया था। बाकी 11 लोगों में होटल के बाउंसर, डांस के दौरान ड्रम, पियानो बजाने वाले, प्लेयर इंचार्ज, वेटर और अन्य कर्मचारी शामिल हैं। इनके परिजन रविवार रात थाने पहुंचे और गिरफ्तारी को लेकर हंगामा मचाया। पुलिस को पूछताछ में रेस्क्यू की गईं युवतियों ने पैसे उड़ाने वाले कुछ बड़े कारोबारियों के नाम बताए हैं। ये कारोबारी युवतियों से मोबाइल पर चैटिंग भी करते थे। इनकी तलाश की जा रही है।

 

दो हजार फीट में बना था बंगला।

अखबार के कर्मचारी सोनू की हुई शिकायत, 4 घंटे थाने में पूछताछ
पुलिस को जीतू के अखबार में काम करने वाले सोनू उर्फ नवीन यादव को लेकर भी कुछ लोगों ने शिकायत की। इस पर एएसपी प्रशांत चौबे की टीम ने ऑपरेटर सोनू को हीरानगर थाने बुलाया और 4 घंटे से ज्यादा जीतू से जुड़े कई बिंदुओं पर पूछताछ की।

ब्याज के धंधे वालों से भी की पूछताछ
डिब्बा कारोबार से जुड़े कई बड़े कारोबारियों पर भी पुलिस की नजर है। जीतू के अन्य धंधों की भी पुलिस जानकारी जुटा रही है। बताते हैं जीतू का सराफा में डिब्बा कारोबार में भी बड़ा दखल था। इसके अलावा ब्याज पर भी उसने काफी पैसा चला रखा था। इन सबमें उसके भागीदार रहे लोगों से पुलिस पूछताछ कर रही है।

तीन से जीतू की यह पांचवी प्रॉपर्टी ध्वस्त की।

प्रेस कॉम्प्लेक्स की जमीन को लेकर आईडीए करवाएगा एफआईआर
प्रेस कॉम्प्लेक्स में फर्जी दस्तावेजों से प्लॉट हड़पने के मामले में आईडीए सोमवार को जीतू सोनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाएगा। यह कार्रवाई दो दिन पहले ठाणे निवासी रवींद्र पंडित के एमआईजी थाने में फर्जी तरीके से प्रेस कॉम्प्लेक्स में उनकी जमीन हथियाने और दैनिक नवीन अखबार के आरएनआई नंबर पर हेराफेरी कर खुद का अखबार निकालने के मामले में केस दर्ज करवाने के बाद हो रही है।

 

मलबे में तब्दील हुआ बंगला।

जीतू के बैंक खातों और ई-वॉलेट पर भी पुलिस की नजर, होगी जांच
पुलिस ने महाराष्ट्र, गुजरात के आला अफसरों को जीतू की जानकारी भेजी है और अलर्ट पर रहने को कहा है। एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने बताया कि फरार जीतू को जो भी संरक्षण देगा या आर्थिक मदद करेगा, पुलिस उसे भी केस में आरोपी बनाएगी। उसके बैंक खातों व ई-वॉलेट पर हमारी नजर है, ताकि कोई उसे सहयोग न कर सके। उसके कई दोस्त, परिचित हैं जो उसे सीधे पैसा पहुंचा सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments