Tuesday, September 28, 2021
Homeब्रेकिंग न्यूज़अंतागढ़ टेपकांड - आधी रात से शुरू हुए ड्रामे के बाद ब्लैकमेलिंग...

अंतागढ़ टेपकांड – आधी रात से शुरू हुए ड्रामे के बाद ब्लैकमेलिंग और फिरौती में मुख्य गवाह फिरोज सिद्दकी गिरफ्तार

  • कांग्रेस नेता ने सिविल लाइंस थाने में दर्ज कराई एफआईआर, 1.90 करोड़ की उगाही के लिए धमकाने का आरोप
  • पुलिस टीम ने तीन अलग-अलग ठिकानों पर मारे छापे, कंप्यूटर, पेन ड्राइव सहित अन्य सामान किया जब्त

रायपुर. अंतागढ़ टेपकांड के मुख्य गवाह फिरोज सिद्दीकी को लेकर राजधानी रायपुर में सोमवार आधी रात से ड्रामा शुरू हो गया। हालांकि पुलिस ने मंगलवार दोपहर फिरोज को ब्लैकमेलिंग और फिरौती मांगने के आरोप में गिरफ्तार कर इस पर अल्प विराम लगा दिया है। पुलिस टीम ने फिरोज सिद्दीकी के सिविल लाइंस स्थित घर सहित तीन स्थानों पर छापेमारी की कार्रवाई की। पुलिस ने वहां से कंप्यूटर, पेन ड्राइव सहित अन्य सामान जब्त किया है।

गिरफ्तारी से पहले जारी किया वीडियो, कहा- अंतागढ़ पार्ट-2 आना अभी बाकी

  1. दरअसल, कांग्रेस नेता पप्पू फरिश्ता ने फिरोज सिद्दीकी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। गिरफ्तारी के बाद एसपी आरिफ शेख ने बताया कि फिरोज सिद्दीकी पर 1.90 करोड़ रुपए की उगाही के लिए धमकाने का आरोप है। इसमें से  25 लाख रुपए पप्पू फरिश्ता ने दे दिए थे। इसके बाद कांग्रेस नेता को धमकाया जा रहा था जिसकी शिकायत की गई। उन्होंने बताया कि फिरोज के दूसरे ठिकाने पर भी छापा मारा गया है। तीन जगहों सिविल लाइन, तेलीबांधा और माना थाना क्षेत्र में सर्चिंग की गई है। तलाशी के बाद सीडी, कंप्यूटर और पेन ड्राइव पुलिस ने जब्त कर लिया है।
  2. अंतागढ़ टेपकांड के मुख्य गवाह फिरोज सिद्दिकी ने गिरफ्तारी से पहले एक वीडियो जारी किया है। इस वीडियो में सिद्दीकी ने कहा कि रात एक बजे पुलिस ने मेरे घर में दबिश दी। अपने ही घर में नजरबंद हूं। सिद्दीकी ने दावा किया कि अंतागढ़ मामले की अगर सही जांच की जाए तो वो चेहरे भी बेनकाब होंगे जो आज तक पर्दे के पीछे हैं। कहा कि अभी अंतागढ़ टेपकांड पार्ट-2 आना बाकी है। आरोप लगाया कि आधी रात बगैर वारंट के पुलिस ने मेरे घर में दबिश दिया है और मुझे जान से मारने की कोशिश हो रही।
  3. अंतागढ़ टेपकांड मामला

    साल 2014 में अंतागढ़ में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने पूर्व विधायक मंतूराम पवार को प्रत्याशी बनाया। भाजपा से भोजराम नाग खड़े हुए थे। अंतिम वक्त पर मंतूराम ने अपना नामांकन वापस ले लिया था। बाद में फिरोज सिद्दीकी नाम से एक व्यक्ति का फोन कॉल वायरल हुआ। इसमें आरोप लगे थे कि पूर्व सीएम अजीत जोगी के पुत्र अमित जोगी ने मंतू की नाम वापसी कराई। टेपकांड में कथित रूप से अमित जोगी और तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता के बीच हुई बातचीत बताई गई थी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments