ऑस्ट्रेलिया : सेमीफाइनल से पहले ग्राउंड पर नंगे पैर घूमे खिलाड़ी, सभी ने साथ में वर्ल्ड कप के सपनों पर बात की

0
104
  • ऑस्ट्रेलिया के कोच जस्टिन लैंगर ने खिलाड़ियों को नेट पर जाने से पहले साथ में नंगे पैर घूमने के लिए कहा
  • ऑस्ट्रेलियाई वेबसाइट बेयरफुट हीलिंग के मुताबिक, इस तरीके से खिलाड़ी अपनी बायलॉजिकल रिदम वापस पा सकते हैंलंदन. ऑस्ट्रेलियाई टीम गुरुवार को एजबेस्टन में इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में उतरेगी। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पिछले ही मैच में मिली करारी हार का टीम पर भले ही फर्क न पड़ा हो, लेकिन कोच जस्टिन लैंगर खिलाड़ियों को वापस उनकी लय में लाने के लिए एक नया तरीका अपनाया है। सोमवार को प्रैक्टिस सेशन के दौरान उन्होंने नेट्स पर जाने पहले खिलाड़ियों को साथ में नंगे पैर घूमने की सलाह दी। खास बात यह रही कि इसमें सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं कोचिंग स्टाफ के सदस्य भी ग्राउंड पर नंगे पैर ही घूमे।ऑस्ट्रेलिया की वेबसाइट बेयरफुट हीलिंग ने इस तरीके को अर्थिंग बताया है। वेबसाइट के मुताबिक, ऐसा करने से लोगों को पृथ्वी से जुड़कर उसकी प्राकृतिक ऊर्जा लेने का मौका मिलता है, जिससे शरीर के बायलॉजिकल रिदम्स लय में आते हैं। कई हॉलीवुड एक्टर्स से लेकर ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स की रग्बी टीम भी कई मौकों पर इस तरीके को आजमा चुकी हैं।

    कोचिंग के नए तरीके आजमा रहे लैंगर

    लैंगर ने खिलाड़ियों को एक साथ जूते-मोजों के बिना ग्राउंड पर घूमने और साथ बैठकर वर्ल्ड कप के बारे में बात करने के लिए भी कहा। यहां हर बातचीत का विषय वर्ल्ड कप के सपने और अहमियत रखा गया, जिस पर हर खिलाड़ी ने एक-दूसरे से बात की। सैंडपेपरगेट स्कैंडल के बाद से ही ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड टीम के रवैये में बदलाव चाहता था। ऐसे में लैंगर को कोच की जिम्मेदारी दी गई, जो शुरुआत से ही अपने अलग कोचिंग तरीकों के लिए सुर्खियों में हैं। लैंगर ने कुछ समय पहले ही एक सेल्फ इम्प्रूवमेंट किताब भी लिखी थी, जिसमें उन्होंने शांत रहने के तरीकों पर बात की थी। वह खुद भी कह चुके हैं कि साल में एक महीने मैं दाढ़ी बढ़ाता हूं और जूते नहीं पहनता।

    खिलाड़ियों पर भी असर डाल रहे लैंगर के तरीके

    उस्मान ख्वाजा के चोटिल होने के बाद टीम से जुड़े पीटर हैंड्सकॉम्ब ने लैंगर के इस तरीके को अनोखा अनुभव बताया। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी अपने पैरों के नीचे घास का अनुभव कर रहे थे, इससे शरीर को धरती की सकारात्मक ऊर्जा मिलने का अनुभव हो रहा था। साथ में बैठकर बातचीत करने और वर्ल्ड कप के सपनों पर कई खिलाड़ियों ने काफी खुलकर विचार रखे। यहां तक के सफर पर भी हमने अपनी बात रखी।

    वे जैसे चाहें तैयारी करें, हम अपने तरीके से तैयार रहेंगे: जो रूट
    ऑस्ट्रेलिया के इस तरह के प्रैक्टिस सेशन पर इंग्लैंड के जो रूट ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि वे जैसे चाहें मैच की तैयारी कर सकते हैं। हम भी अपने तरीकों से तैयार रहेंगे। रूट सोमवार को उन चुनिंदा खिलाड़ियों में थे, जिन्होंने नेट प्रैक्टिस पर जोर दिया। क्रिस वोक्स और जेसन रॉय भी मैदान पर थोड़ी देर दौड़ते नजर आए, लेकिन इंग्लैंड ने इसे एक रेस्ट डे की तरह ही रखा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here