Friday, September 17, 2021
Homeव्यापारलगातार ग्यारहवें महीने ऑटो सेक्टर की बिक्री में गिरावट, कारों की बिक्री...

लगातार ग्यारहवें महीने ऑटो सेक्टर की बिक्री में गिरावट, कारों की बिक्री में कुछ सुधार

अर्थव्यवस्था में सुस्ती और नकदी के संकट का सबसे ज्यादा असर भारतीय वाहन उद्योग में देखा जा रहा है, जहां साल-दर-साल आधार पर जुलाई में खुदरा बिक्री में छह फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. इसके पहले ऑटो सेक्टर की संस्था सियाम ने थोक बिक्री के जो आंकड़े जारी किए थे, उसमें तो बिक्री में करीब 30 फीसदी की भारी गिरावट आने की बात कही गई थी, इसलिए यह आंकड़ा कुछ राहत देने वाला है. जून के मुकाबले जुलाई में यात्री वाहनों की बिक्री में बढ़त देखी गई है, इससे लग रहा है कि अब कारों की बिक्री के मामले में किस्मत पलटने लगी है.

ऑटो सेक्टर की बिक्री में लगातार ग्यारहवें महीने गिरावट आई है. जून की तुलना में कारों और अन्य पैसेंजर वाहनों की जुलाई की बिक्री में बढ़त देखी गई है. थोक और खुदरा आंकड़ों में यह अंतर डीलर्स के पास मौजूद इन्वेंट्री की वजह से आता है.

फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशंस (एफएडीए) के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले महीने कुल 16,54,535 वाहनों की बिक्री हुई, जबकि पिछले वित्त वर्ष के इसी महीने में कुल 17,59,219 वाहनों की बिक्री हुई थी. हालांकि, माह-दर-माह आधार पर, कुल बिक्री में पांच फीसदी की तेजी दर्ज की गई. जून में 15,81,141 वाहनों की बिक्री हुई थी. आंकड़ों से पता चलता है कि पैसेंजर वाहनों की बिक्री में साल-दर-साल आधार पर 11 फीसदी की गिरावट आई है.

हुआ कुछ सुधार

एफएडीए के अध्यक्ष अशीष हर्षराज काले ने कहा, ‘कंज्यूमर सेंटिमेंट और मांग सभी खंडों और सभी भौगोलिक इलाकों में कमजोर बनी हुई है. जुलाई की बिक्री साल-दर-साल आधार पर नकारात्मक जोन में बनी हुई है. हालांकि मॉनसून में सुधार से कुछ सकारात्मकता लौटी है, लेकिन मांग कमजोर है.’  असल में माह-दर-माह के हिसाब यानी जून की तुलना में देखें तो कुल वाहनों की बिक्री में 5 फीसदी और पैसेंजर वाहनों की बिक्री में 7 फीसदी की बढ़त हुई है.

उन्होंने कहा, ‘जून में बारिश काफी कम हुई, इसलिए कंज्यूमर सेंटिमेंट सबसे निचले स्तर पर था, जबकि जुलाई में अच्छी बारिश हुई, जिससे उपभोक्ताओं में भरोसा लौटा है और लंबित खरीद जुलाई में की गई. इन कारकों के बावजूद सीवी की बिक्री माह-दर-माह आधार पर भी नकारात्मक रही.

गौरतलब है कि इसके पहले सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चररर्स (SIAM) जारी वाहनों की थोक बिक्री के आंकड़ों के मुताबिक पिछले करीब एक साल से वाहनों की बिक्री में गिरावट आ रही है.

थोक आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई में गाड़ियों की घरेलू बिक्री 30.9 फीसदी कम हो गई है. सबसे बड़ी ऑटो कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की बिक्री में 36 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है. लगातार घटती बिक्री की वजह से कंपनी ने 1,000 अस्थायी कर्मचारियों की छंटनी कर दी है और नई भर्तियों को रोकने की योजना बनाई है.

होंडा कार्स की बिक्री में तो 49 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है. फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा) के अनुसार, भारत में पिछले तीन माह के दौरान ऑटोमोबाइल डीलरशिप स्टोर से 2 लाख लोगों को नौकरियों से निकाला गया है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments