Sunday, September 26, 2021
Homeहिमाचलसुरजकुंड मेला : भीमाकाली मंदिर की प्रतिकृति बनाई गई, हिंदू और बौद्ध...

सुरजकुंड मेला : भीमाकाली मंदिर की प्रतिकृति बनाई गई, हिंदू और बौद्ध शैली के लिए जाना जाता है हिमाचल का यह धर्मस्थल

शिमला. सूरजकुंड में 34वें अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेले में भीमाकाली मंदिर की प्रतिकृति बनाई गई है। पारंपरिक शैली में बनाए गए इस मंदिर को देखने बड़ी संख्या में पर्यटक आ रहे हैं। थीम स्टेट हिमाचल प्रदेश द्वारा इस प्रतिकृति को बनाया गया है।

भीमाकली मंदिर हिमाचल प्रदेश के सराहन में स्थित हिंदुओं का एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। माना जाता है कि देवी भीमाकली को समर्पित यह मंदिर लगभग 800 साल पुराना है। यह अपनी अनूठी वास्तुकला, जो हिंदू और बौद्ध स्थापत्य शैली का मिश्रण है, के लिए जाना जाता है। भीमाकाली मंदिर भारत में सबसे महत्वपूर्ण ‘शक्तिपीठ’ या पवित्र स्थलों में से एक है।

1996 में हिमाचल बना था थीम राज्य
इससे पहले हिमाचल प्रदेश 1996 में थीम राज्य बना था और महेश्वर देवता मंदिर की स्थाई प्रतिकृति बनाई गई थी। इसके अतिरिक्त हिमाचल के दर्शन करवाते पांच अस्थायी द्वार भी मेला मैदान में बनाए गए हैं। इनमें एक स्थाई द्वार हिमाचल प्रदेश की पारंपरिक शैली में बनाया गया है। थीम स्टेट हिमाचल प्रदेश ने ‘अपना घर’ भी बनाया है जिसे देखने लोग भारी संख्या में उमड़ रहे हैं। पारंपरिक पहाड़ी शैली में बनाए गए दो मंजिला ‘अपना घर’ में जिला चंबा से एक परिवार को ठहराया गया है जो पर्यटकों को ग्रामीण संस्कृति, रहन-सहन व जीवन शैली का अनुभव करा रहा है।

मेले में हिमाचली संस्कृति की झलक
हिमाचल के हथकरघा-हस्तशिल्प व अन्य हिमाचली उत्पादों के स्टालों पर प्रदर्शित उत्पादों को भी खूब पसंद किया जा रहा है। मेला मैदान में हिमाचल प्रदेश की विभिन्नता भरी संस्कृति को दर्शाते सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जा रहे हैं। मेला मैदान की विभिन्न जगहों पर हिमाचली लोक गीत व नृत्य, पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन रहे हैं। पर्यटकों को राज्य के खूबसूरत पर्यटन स्थलों की ओर आकर्षित करने तथा अन्य जानकारी प्रदान करने के लिए स्थापित सूचना केंद्र में काफी संख्या में पर्यटक पहुंच रहे हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments