यूजर पर क्या होगा असर 

सरकार की तरफ से फिक्स्ड लाइन से मोबाइल पर डॉयल करने से पहले जीरो लागने से यूजर को नए मोबाइल नंबर मिलने में आसानी हो जाएगी। सरकार का कहना है कि इस एक कदम से करीब 253 करोड़ नंबर की नई सीरीज को बनाने में मदद मिलेगी। दरअसल भारत में तेजी से फोन यूजर की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में कम्यूनिकेशन मिनिस्ट्री ज्यादा संख्या में नए कॉलिंग नंबर की जरूरत पड़ रही है। इसी के चलते सरकार की तरफ से लैंडलाइन से मोबाइल पर कॉलिंग से पहले जीरो लगाने का फैसला जारी किया गया है।

सरकार ने जीरो लगाने की दी मंजूरी

दूरसंचार विभाग की तरफ से इस मामले में टेलिकॉम कंपनियों को एक जनवरी 2021 तक नई व्यवस्था लागू करने के लिए सभी जरूरी उपाय करने का निर्देश दिया है। आपको बता दें कि टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने इसी साल मई माह में फिक्स्ड लाइस से मोबाइन नंबर पर डॉलिंग से पहले जीरो लगाने की सिफारिश की थी, जिसे सरकार की तरफ से मंजूरी मिल गई है

ट्राई की मामले में दलील 

ट्राई की दलील थी कि इस पहल से काफी संख्या में नए मोबाइल नंबर की सीरीज को बढ़ाने में मदद मिलेगी। लेकिन इस मामले में एक्सपर्ट का मानना है कि किसी खास तरह की कॉल से पहले जीरो डॉयल करने मोबाइल नंबर की कमी को दूर नही किया जा सकेगा। इसके लिए सभी तरह की कॉलिंग से पहले जीरो लगाने को अनिवार्य किया जाना चाहिए।