Monday, September 27, 2021
Homeकर्नाटककर्नाटक : कुमारस्वामी बोले- अब गठबंधन की जरूरत नहीं, सत्ता भी नहीं...

कर्नाटक : कुमारस्वामी बोले- अब गठबंधन की जरूरत नहीं, सत्ता भी नहीं चाहिए; भाजपा ने कहा- देवेगौड़ा परिवार ड्रामेबाज

बेंगलुरु. पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन तोड़ने के संकेत दिए। उन्होंने रविवार को कार्यकर्ताओं से कहा कि अब हमें किसी गठबंधन की जरूरत नहीं। मुझे सत्ता नहीं, आपका प्यार चाहिए। इससे पहले उन्होंने कहा था कि वे राजनीति छोड़कर शांति से रहने की सोच रहे हैं। इस पर, भाजपा नेता जगदीश शेट्टार ने कहा कि कुमारस्वामी चुनाव हारने पर कई बार घड़ियालू आंसू बहा चुके हैं। पूरा देवेगौड़ा परिवार ड्रामेबाज है। 23 जुलाई को फ्लोर टेस्ट के दौरान कुमारस्वामी की गठबंधन सरकार गिर गई थी।

  • कुमारस्वामी ने मंड्या की सभा में दावा किया- येदियुरप्पा की भाजपा सरकार ज्यादा दिनों तक नहीं रहेगी। राज्य में जल्द ही 17 सीटों पर उपचुनाव या सभी 224 विधानसभा सीटों पर चुनाव हो सकते हैं। कार्यकर्ताओं को इसकी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।
  • उन्होंने शनिवार को कहा, ‘‘मैं संयोग से राजनीति में आया और फिर एक्सीडेंटल सीएम बना था। ईश्वर ने मुझे दो बार मुख्यमंत्री पद संभालने का मौका दिया। मैं यहां हर किसी को संतुष्ट करने के लिए नहीं था। पिछली सरकार के 14 महीने में राज्य के विकास के लिए काम किया। इससे मैं संतुष्ट हूं।’’
  • ‘‘मैं अब शांति से परिवार के साथ रहना चाहता हूं। आज राजनीति कहां चली गई है। यह अच्छे लोगों के लिए नहीं रही। राजनीति जातिगत हो गई है। ऐसी राजनीति मेरे परिवार में मत लाओ। मुझे शांति से रहने दो। मैं अब राजनीति में नहीं रहना चाहता। मैं लोगों के दिल में जगह बनाना चाहता हूं।’’

कुमारस्वामी सिर्फ बातें करते हैं, राजनीति नहीं छोड़ते: भाजपा

भाजपा नेता जगदीश शेट्टार कुमारस्वामी के बयानों पर कहा, ”हम उनके बयानों को गंभीरता से नहीं लेते हैं। क्योंकि देवेगौड़ा और कुमारस्वामी नौटंकी करते हैं। जब भी चुनाव हारते हैं तो घड़ियालू आंसू बहाने लगते हैं। वह कई बार राजनीति छोड़ने की बात कह चुके हैं। देवेगौड़ा परिवार के लोग जो कहते हैं, हमेशा उसके विपरित ही काम करते हैं।”

14 महीने में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार गिरी

कुमारस्वामी दूसरी बार कांग्रेस के सहयोग से मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने 14 महीने तक कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार चलाई। लेकिन जून में दोनों पार्टियों के 16 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। येदियुरप्पा की अगुआई में भाजपा ने इनके इस्तीफे की मांग की थी। इसके बाद कुमारस्वामी विश्वास मत प्रस्ताव लेकर आए, लेकिन चार दिन चली चर्चा के बाद सरकार का प्रस्ताव 23 जुलाई को फ्लोर टेस्ट में 99 के मुकाबले 105 मतों से गिर गया था।

बागी विधायकों ने अयोग्यता के फैसले को चुनौती दी
इसके बाद कर्नाटक में भाजपा ने सरकार बनाई और येदियुरप्पा चौथी बार मुख्यमंत्री बने। 29 जुलाई को उनके बहुमत परीक्षण से एक दिन पहले ही तत्कालीन स्पीकर रमेश कुमार ने 16 बागी विधायकों को दल बदल कानून के तहत अयोग्य घोषित कर दिया था। अब वे 2023 तक कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। इन नेताओं ने अपनी अयोग्यता के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments