जितिन प्रसाद की एंट्री से उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्र में भाजपा को मिलेगी मजबूती

0
5

भारतीय जनता पार्टी को ब्राह्मण विरोधी साबित करने की मुहिम को हवा दे रही कांग्रेस को जितिन प्रसाद की बगावत से तगड़ा झटका लगा है। वहीं, भाजपा नेतृत्व ने विधानसभा आम चुनाव की तैयारियों को गति देने से पूर्व अपने इरादे भी जाहिर कर दिए हैं कि सत्ता में वापसी के लिए हर दांव चलेंगे और अन्य दलों के दमदार नेताओं से भी गुरेज न किया जाएगा।

भारतीय जनता पार्टी को ब्राह्मण विरोधी साबित करने की मुहिम को हवा दे रही कांग्रेस को जितिन प्रसाद की बगावत से बहराइच से लेकर लखीमपुर खीरी शाहजहांपुर व पीलीभीत से लेकर बरेली तक तराई बेल्ट में कांग्रेस की जड़ें खुदेंगी और भाजपा को ताकत मिलेगी।

खासकर उन क्षेत्रों में, जहां भाजपा को अपनी स्थिति और मजबूत करने की जरूरत है। पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद की भाजपा में एंट्री को इसी रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है। इससे बहराइच से लेकर लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुुर व पीलीभीत से लेकर बरेली तक तराई बेल्ट में कांग्रेस की जड़ें खुदेंगी और भाजपा को ताकत मिलेगी। बता दें कि वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में इन क्षेत्रों में ही कांग्रेस के शानदार प्रदर्शन ने चौंकाया था।

अस्सी विधानसभा क्षेत्रों पर फोकस : भाजपा ने प्रदेश में विधानसभा की उन सीटों पर फोकस किया है, जहां पार्टी अब तक कमजोर स्थिति में रही है। 80 से अधिक विधानसभा सीटों को चिन्हित करके विशेष कार्ययोजना बनायी गयी है। ऐसे क्षेत्रों में राज्यसभा व विधान परिषद सदस्यों को लगाया गया है। बाहरी नेताओं को जोडऩे की कोशिशें भी जारी है। वर्ष- 2022 में 300 प्लस सीटों का आकंड़ा पाने के लिए जातीय समीकरण में फिट बैठने वाले अन्य दलों के स्थानीय नेताओं से निरंतर संपर्क साधा जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि करीब एक दर्जन बड़े नाम भाजपा नेतृत्व के संपर्क में है। उनकी ज्वाइनिंग उचित समय पर करायी जाएगी।

विधान परिषद में भेजने की चर्चा : भाजपा में शामिल होने के साथ ही जितिन प्रसाद को विधानपरिषद में नामित सदस्य के तौर पर भेजने व कैबिनेट में स्थान देने की चर्चा भी जोरों पर है। माना जा रहा है कि जितिन को रीता बहुगुणा जोशी की तरह अहमियत दी जाएगी। जितिन के जरिये ब्राह्मïणों के अलावा युवाओं को जोड़ने में भी मदद मिलेगी।

मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष ने किया स्वागत : जितिन प्रसाद द्वारा भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा, जितिन के आने से प्रदेश में भाजपा को मजबूती मिलेगी।