Thursday, September 23, 2021
Homeपंजाबबटाला में खूनी टकराव : जत्थेदार निहंग ने अस्पताल में तोड़ा दम;...

बटाला में खूनी टकराव : जत्थेदार निहंग ने अस्पताल में तोड़ा दम; 15 निहंगों ने तलवारों ने सरेबाजार किया था हमला

पंजाब के बटाला में सर्कुलर रोड पर हुए खूनी टकराव में घायल जत्थेदार निहंग की मौत हो गई है। अस्पताल में इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ा। मृतक के बेटे जोरावर सिंह के बयानों पर निहंग मेजर सिंह और साब सिंह के अलावा करीब 13 अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 302, 148, 149 के तहत मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल आरोपी फरार हैं।

रविवार को सर्कुलर रोड पर स्थित एक निजी अस्पताल के सामने कुछ निहंगों ने मिलकर दूसरे पक्ष के निहंग पर तलवारों से हमला कर कर दिया था। हमले गंभीर रूप से घायल निहंग को बटाला के सिविल अस्पताल में ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान बाबा नरिंदर सिंह मान निवासी ईसा नगर बटाला के रूप में हुई है।

अस्पताल में उपचाराधीन घायल निहंग।
अस्पताल में उपचाराधीन घायल निहंग।

मृतक मिसल शहीद बाबा बंदा सिंह बहादर तरनादल के जत्थेदार हैं। थाना सिटी के एसएचओ सुखइंदर सिंह ने मामले की पुष्टि की। वहीं जानकारी देते हुए मृतक निहंग नरिंदर सिंह मान (55) के साथी धीर सिंह खालसा ने बताया कि रविवार को वह दोनों मोटरसाइकिल पर किसी काम के लिए जा रहे थे। पहले हमलावरों का निहंगों का नरिंदर सिंह मान के मोबाइल पर फोन आया कि वह कहां पर हैं।

नरिंदर सिंह ने बताया कि वह इस समय बटाला के सर्कुलर रोड पर एक निजी अस्पताल के सामने हैं। थोड़ी देर के बाद एक बड़े वाहन में करीब 15 निहंग आए। इन निहंगों में मुख्य निहंग मेजर सिंह था, जो गाड़ी से नहीं उतरा, जबकि बाकी उनके निहंगों ने तेजधार हथियारों, डंडों, तलवारों और कुल्हाड़ी से नरिंदर सिंह मान से हमला कर दिया। नरिंदर सिंह बुरी तरह से घायल हो गए।

लोगों ने घायल निहंग को अस्पताल पहुंचाया था।
लोगों ने घायल निहंग को अस्पताल पहुंचाया था।

इसके बाद हमलावरों में से 4 निहंग सिंह उसकी ओर भी हमले की नीयत से आए, लेकिन मैंने अपना शस्त्र उठाया इसे देख आरोपी मौके फरार हो गए। धीर सिंह खालसा ने बताया कि इसके बाद उसने निहंग नरिंदर सिंह मान को घायल अवस्था में बटाला के सिविल अस्पताल में पहुंचाया, जहां उपचार के दौरान निहंग नरिंदर सिंह की मौत हो गई।

धीर सिंह खालसा ने बताया कि निहंग नरिंदर सिंह मान दूसरी निहंग जत्थेबंदियों को गुरुद्वारा साहिब में भांग का नशा करने से रोकते थे। इसी रंजिश के चलते उन पर हमला किया गया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments