Monday, September 27, 2021
Homeमहाराष्ट्रपार्किंग की समस्या पर सख्त हुआ बॉम्बे हाईकोर्ट

पार्किंग की समस्या पर सख्त हुआ बॉम्बे हाईकोर्ट

मुंबई और इसके आसपास के जिलों में पार्किंग की समस्या के निवारण को लेकर दायर एक याचिका की सुनवाई के दौरान बॉम्बे हाईकोर्ट ने BMC और नवी मुंबई महानगरपालिका की खिंचाई की है। अदालत ने कहा है कि मुंबई और इसके आसपास के जिलों में पार्किंग की समस्या दिनोंदिन गंभीर हो रही है। इन इलाकों में सड़कों की लगभग 40 प्रतिशत जगह, दोनों तरफ गाड़ी पार्किंग से कम हो गई है, जिसके कारण आम लोगों का सड़क पर चलना मुश्किल हो गया है।मुख्य न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति गिरीश कुलकर्णी की बेंच ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान सवाल उठाया कि एक ही परिवार को, जिसके पास सिर्फ एक फ्लैट हैं उसे चार से पांच गाड़ियां रखने की अनुमति क्यों दी जाती है? पीठ ने कहा कि पार्किंग के लिए जगह हो, तो ही नई गाड़ी खरीदने की अनुमति देनी चाहिए। अदालत गुरुवार को सामाजिक कार्यकर्ता संदीप ठाकुर की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

PIL के मुख्य पॉइंट्स

याचिका में सार्वजनिक सड़कों पर अवैध पार्किंग का मुद्दा उठाया गया है। बिल्डर बहुमंजिला इमारतों में गाड़ियों की पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था नहीं करते हैं, जिसके चलते उसके निवासी सोसाइटियों के बाहर सड़कों पर पार्किंग करते हैं। सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा कि इस मुद्दे पर प्रशासन की ओर से उचित कदम नहीं उठाया गया है, जबकि पार्किंग को नियंत्रित करना उनका कर्तव्य है।

टेक्स पेयर्स के पैसों की हो रही बर्बादी

बेंच ने कहा, ‘मंत्रालय से कूपरेज रोड तक करोड़ों रुपये सड़कों के कॉन्क्रीटीकरण पर खर्च किए गए हैं, क्या कारों की पार्किंग के लिए? उस सड़क पर पूरी तरह से कारें खड़ी हैं। टेक्स पेयर का पैसा इस तरह बर्बाद क्यों?’

पीठ ने कहा कि अधिकारियों को अपना दिमाग लगाने की जरूरत है और कोई ठोस नीति बनाने की जरूरत हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments