Tuesday, September 28, 2021
Homeउत्तर-प्रदेशBJP पर फिर भड़कीं बसपा सुप्रीमो, कहा- यूपी में दलितों और गरीबों...

BJP पर फिर भड़कीं बसपा सुप्रीमो, कहा- यूपी में दलितों और गरीबों का उत्पीड़न बढ़ा

बहुजन समाज पार्टी (BSP) सुप्रीमो मायावती ने एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर निशाना साधा है। उन्होंने न्यूज एजेंसी को दिए बयान में बताया कि यूपी में शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में BSP के विधायक तीन कृषि कानूनों का विरोध करेंगे। मायावती बोलीं, प्रदेश में कानून व्यवस्था धड़ाम हो चुकी है। दलितों और गरीबों का उत्पीड़न काफी बढ़ गया है। मीडिया भी इसे नहीं दिखाता है।मायावती ने और क्या कहा ?

मैंने अपनी पार्टी के विधायकों से कहा है कि विधानसभा के नियम का पालन करते हुए कृषि कानूनों का विरोध करें।

हमारी पार्टी का प्रयास होगा कि यूपी में बीजेपी कृषि कानून लागू न कर पाए।

यूपी की खराब कानून व्यवस्था को लेकर विधायक प्रदर्शन करेंगे।

ये लेाग (BJP) मीडिया में खूब प्रचार करते हैं कि यहां कानून का राज है। असल में यहां बेहद खराब कानून व्यवस्था है।

दलितों का उत्पीड़न किया जा रहा है। हमारी महिलाएं असुरक्षित हैं।

इस सरकार में जो कोरोना और बाढ़ पीड़ितों की अनदेखी हो रही है। इसका मुद्दा भी विधानसभा में उठाएंगे।

माया बोलीं- प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन से डर रही है BJP

मायावती ने कहा, BSP के प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन से BJP डर गई है। उनकी बौखलाहट साफ दिख रही है। इसके पहले रविवार को भी मायावती ने ट्विट करके भाजपा पर निशाना साधा था। BJP ने पोस्टर जारी कर मायावती और अखिलेश यादव को सत्ताभोगी बताया तो मायावती ने भी पलटवार कर दिया। BSP प्रमुख ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाढ़ प्रभावित इलाकों के दौरे को दिखावा बताते हुए सत्ताभोगी वाले बयान का जवाब दिया। लिखा, ‘BJP का ये पोस्टर उनकी जातिवाद सोच का प्रतीक है।’

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से शनिवार को एक पोस्टर जारी किया गया था। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मायावती को एक कैटेगिरी, जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दूसरी कैटेगिरी में दिखाया था। मायावती और अखिलेश को इस पोस्टर में सत्ताभोगी, जबकि योगी आदित्यनाथ को कर्मयोगी बताया गया है। अखिलेश की फोटो के साथ पोस्टर में लिखा गया है, ‘बाढ़ के वक्त लाखों रुपए की मर्सिडीज साइकिल से चुनावी प्रचार में मस्त।’ वहीं, मायावती की फोटो के साथ लिखा गया है, ‘बाढ़ ग्रस्त लोगों की मदद के बजाय जातिवाद सम्मेलन में व्यस्त।’

BJP के इस पोस्टर का मायावती ने भी ट्वीट करके जवाब दिया है। लिखा, ‘भाजपा द्वारा ट्विटर पर फर्क साफ है। पोस्टर में बीएसपी पर बाढ़ग्रस्त लोगों की मदद के बजाय जातिवादी सम्मेलन करने में व्यस्त टिप्पणी घोर अनुचित व इनकी बौखलाहट व जातिवादी सोच का प्रतीक। यूपी के सीएम द्वारा बाढ़ क्षेत्र का दौरा जनता पर एहसान नहीं बल्कि उनकी जिम्मेदारी जबकि राहत गायब।’ एक अन्य ट्विट में मायावती ने लिखा, ‘इसी प्रकार, बीएसपी के प्रबुद्ध वर्ग विचार संगोष्ठी की यूपी के जिलों-जिलों में अपार सफलता से बौखला कर पहले इसे रोकने का सरकारी प्रयास और अब इसे ‘जातिवादी सम्मेलन’ कहना बीजेपी की गलत सोच व समझ को ही प्रदर्शित करता है। यह अति-निन्दनीय है।’

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments