Friday, September 24, 2021
Homeचंडीगढ़बुलेट की ‌आवाज से परेशान चंडीगढ़ : सेक्टर 42 निवासियों ने लगाई...

बुलेट की ‌आवाज से परेशान चंडीगढ़ : सेक्टर 42 निवासियों ने लगाई SSP से गुहार; हाईकोर्ट के आदेशों का कराएं पालन

घुमण घुमौण नुं तां थार रखी ए, बुलेट तां रखी ए पटाके पौण नुं। सिंगर सुनंदा शर्मा का यह गीत काफी मशहूर है और इसके बाद ही युवाओं के बीच बुलेट बाइक से पटाखे फोड़ने का ट्रेंड काफी बढ़ गया। बुलेट पर गेड़ियां मारते और पटाखे फोड़ते हुए भले ही युवा काफी रोमांच महसूस करते होंगे। लेकिन बुजुर्गों को बुलेट के पटाखे कितना परेशान करते हैं ये वही जानते हैं।

इसलिए अब सेक्टर-42 के कुछ बुजुर्गों ने शहर के SSP से गुहार लगाई है कि बुलेट में मॉडिफाई साइलेंसर और प्रेशन हॉर्न पर प्रतिबंध है। लेकिन इस बावजूद बिगड़ैल युवक नियमों को ताक पर रखे हुए हैं और लोगों को परेशान कर रहे हैं। इसलिए सभी ने पुलिस कप्तान कुलदीप सिंह चहल को लेटर लिखकर ऐसे युवाओं पर कार्रवाई करने के अलावा शहर में कानून और शांति व्यवस्था बनाने की मांग की हैं।

अपनी शिकायत में सेक्टर 42 के सिटीजन वेलफेयर सोसायटी के प्रधान सहित इलाके में रहने वाले अन्य लोगों ने SSP से साफ कहा है कि पिछले दो साल से एरिया में रहने वाले बुजुर्ग, बीमारी से जूझ रहे लोग, महिलाएं और स्टूडेंट्स काफी परेशान हैं। युवक ग्रुप्स में आते हैं और बुलेट बाइक से पटाखे बजाकर भाग जाते हैं।

लोगों का कहना है कि हम जब भी शिकायत करते हैं तो थाना पुलिस कुछ समय के लिए नाकाबंदी कर देती है। लेकिन, नाकाबंदी हटने के बाद युवक दोबारा से बुलेट के पटाखे चलाते और प्रेशन हॉर्न का इस्तेमाल करते हैं। उनकी बाइक जब्त नहीं की जाती हैं और इस कारण युवक निडर होकर मनमानी कर रहे हैं।

बता दें कि पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट चंडीगढ़ ने पहले ही बुलेट में मॉडिफाई साइलेंसर्स और प्रेशर प्रेशर हॉर्न पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। इसके बाद चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस ने एक मुहिम भी चलाई थी। इस बीच उल्लंघन करने वालों के चालान करने के साथ बुलेट भी इंपाउंड किए थे। लेकिन पुलिस की ढील के बाद युवा फिर पटाखे चलाते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments