Tuesday, September 21, 2021
Homeहिमाचलपंचकूला : गन पॉइंट पर शोरूम में डकैती और एक युवक के...

पंचकूला : गन पॉइंट पर शोरूम में डकैती और एक युवक के मर्डर मामले में 8 आरोपियों के खिलाफ 1600 पन्नों की चार्जशीट कोर्ट में दाखिल

पंचकूला. 30 जनवरी 2019 को सेक्टर 20 के शोरूम में गन पॉइंट पर एक शोरूम में लोगाें को बंधक बनाकर डकैती करने और एक युवक का मर्डर करने के मामले में क्राइम ब्रांच ने पंचकूला कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की।

1600 पन्नों की चार्जशीट में पकड़े गए आठ आरोपियों की पूरी प्लानिंग से लेकर डकैती और मर्डर की वारदात के बारे में बताया गया है। सामने आया है पूरी वारदात का मास्टरमाइंड गैंगस्टर विक्की है, जिसने 7 लोगों के साथ प्लानिंग की और दिल्ली से 9 लोगों को बुलाकर वारदात को अंजाम दिलवाया।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 26 की ओर कुल 8 लोगों के खिलाफ चार्जशीट को पेश की गई है। चार आरोपी प्लानिंग में शामिल थे और चार आरोपी वारदात को अंजाम देने वालों में थे। वारदात को अंजाम देने के लिए प्लानिंग सेक्टर 20 में आरोपी रोहित के फ्लैट में हुई थी।

रोहित को 20 मई को यूपी पुलिस ने एक मर्डर के मामले में गिरफ्तार किया था। रोहित के पास यहां हरियाणा के गैंगस्टर अशोक का भाई गैंगस्टर विक्की रह रहा था। पुलिस उसे पकड़ने के लिए आई थी, तो यहां पुलिस को देखकर विक्की अपने साथी सुनील के साथ फरार हो गया था।

पंचकूला कोर्ट में पेश 1600 पन्नों की चार्जशीट में बताया है कि वारदात की प्लानिंग में शामिल पंचकूला के सुनील राणा, हेमंत उर्फ लाला, नवीन और दिल्ली निवासी कुलदीप को गिरफ्तार किया जा चुका है।

प्लानिंग में कुल 7 आरोपियों में से विनीत उर्फ गैंगस्टर विक्की, उसका चचेरा भाई मोहित, रोहित अभी फरार है। रोहित को पुलिस 30 अगस्त तक यूपी पुलिस से प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आ रही है।विक्की ने दिल्ली गैंग से 9 लोगों को बुलाया था।

जिसमें से जितेंद्र, अलताफ, इरफान, राजस्थान के राजपाल को गिरफ्तार किया जा चुका है। विक्की ने दिल्ली की गैंग को दो दिन पहले ही पंचकूला में बुला लिया था। जिसके बाद उन्हें यहां भागने के लिए पंचकूला से बरवाला जाने वाला रास्ता दिखाया गया था। उन्हें पूरा रूट समझाया गया था।

प्लानिंग में शामिल आरोपी सुनील और हेमंत उर्फ लाला ने जीरकपुर के एक होटल में उनके ठहरने का पूरा इंतजाम किया था। वारदात से एक दिन पहले विक्की गैंग वालों को लेकर आया था। उसके बाद सेक्टर 20 की पूरी रैक्की करवाई गई थी।

वारदात की सुबह विक्की ने सभी की एक मीटिंग भी ली थी। जिसमें सभी को उनका काम समझाया गया था।वारदात से पहले विक्की एक दिन कहीं गया था, जिसके बाद वो छह पिस्टलों को लेकर आया था। उसने वारदात की सुबह कुलदीप को छह पिस्टलें पकड़ाई थी।

वो सभी पिस्टलें दिल्ली की गैंग वालों के पास पहुंचाई गई। वहीं रैक्की के लिए इस्तेमाल की गई गाड़ियों को इंतजाम सुनील ने किया था। उसकी ब्रेजा गाड़ी का वारदात में इस्तेमाल किया था। जबकि उसके पास एक स्कोडा और एक स्विफ्ट गाड़ी भी थी।

यहां आने से पहले ही दिल्ली के सभी 9 आरोपियों ने अपने मोबाइल को ऑफ किया था। सभी अपने अपने मोबाइल को बंद करने के बाद ही तीन बाइक पर सवार होकर यहां आए। लेकिन यहां आने के बाद ओर यहां से जाने के बाद ये सभी विक्की के कॉन्टेक्ट में रहे।

कॉल डिटेल में सामने आया है, कि विक्की से लगातार कई बार बातें की गई हैं। विक्की ने ही उन्हें मोबाइल बंद कर आने के लिए कहा था, ताकि परफेक्ट क्राइम हो सके। प्लानिंग में सभी की अलग अलग लोकेशन सैट की गई थी।

वारदात की शाम सबसे पहले हेमंत और राेहित स्कोड़ गाडी में निकले और उनको रास्ता दिखाते हुए यहां मार्केट में लेकर आए। जिसके बाद खुद कुछ दूरी पर गाडी लगाकर खड़े हो गए। प्लानिंग के अनुसार जब वारदात हुई, उस से पहले ही कुलदीप और मोहित स्विफ्ट गाड़ी में एनएच 73 पर आईटीबीपी भानू के पास पहुंच गए।

वारदात के बाद दिल्ली की गैंग ने इन्हें सामान पकड़ाया और एक दो साथी इस गाडी में बैठे। इसके बाद ये सभी अंबाला की ओर निकले। जिसके बाद ये सभी अंबाला जीटी रोड़ पर मिले। यहां विक्की , रोहित, हेमंत एक ब्रेजा गाड़ी में आए। अंबाला जीटी रो पर इन लोगों ने कुलदीप और मोहित को अपनी गाड़ी में बिठाया, जबकि लुटेरों को स्विफ्ट गाड़ी दे दी।

जिसके बाद सभी दिल्ली की ओर चल पड़े। ये लोग आईटीबीपी भानू के पास से ही सामान को डिवाइड करने में जुट गए थे। जिसके बाद दिल्ली के रास्ते में सारे सामान को आपस में बांटा गया। कुलदीप और मोहित को भी दिल्ली छोड़ आए, क्योंकि उन्हें यहां कोई काम था। उसके बाद बाकी सभी वापस पंचकूला आ गए और नॉर्मल तरीके से सेक्टर 20 की मार्केट में आते जाते रहे। ताकि किसी को शक न हो।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments