मौजूदा रैंकिंग मिलिट्री मैनपॉवर के आधार पर तैयार की गई है। इसमें किसी भी समय किसी राष्ट्र के लिए उपलब्ध ‘जंग के लिए तैयार सैनिक’ को आधार बनाया जाता है। इस सूची पर प्रस्तुत डाटा 2019 के लिए है। आधिकारिक डेटा उपलब्ध नहीं होने पर अनुमान लगाए जाते हैं। मिलिट्री मैनपॉवर के आधार पर टॉप-10 देशों में चीन, भारत के अलावा अमेरिका, उत्तर कोरिया, रूस, पाकिस्तान, दक्षिण कोरिया, ईरान, वियतनाम और सऊदी अरब शामिल हैं। इस सूची में कुल 138 देशों के नाम हैं। वहीं, सबसे कम सैनिकों वाले दस देशों में-सूरीनेम (1850 सैनिक), मोंटेनेग्रो (2000 सैनिक), लाइबेरिया (2100 सैनिक), गैबॉन (5000 सैनिक), माल्डोवा (5100 सैनिक), लातविया (5300 सैनिक), नाइजर (5300 सैनिक), एस्तोनिया (6500 सैनिक), भूटान (7000 सैनिक) और सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक (7150 सैनिक) हैं।

भारतीय एयरफोर्स की ताकत

ग्लोबल फायरपावर रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय एयरफोर्स के पास कुल 2123 विमान हैं। इनमें से 538 युद्धक, 172 हमलावर, 250 ट्रांसपोर्टर, 359 ट्रेनर, 77 स्पेशल मिशन की श्रेणी वाले विमान हैं। वहीं हेलीकॉप्टरों की संख्या 722 है।

थल सेना और नौसेना

भारतीय थल सेना के पास कुल 4292 टैंक हैं। इनके अलावा कुल 8686 हथियारबंद वाहन और 4060 तोपें हैं। रॉकेट प्रोजेक्टर की संख्या 266 बताई गई है। भारतीय नौसेना पर नजर डालें तो ग्लोबल फायरपावर रिपोर्ट के मुताबिक, हमारे पास कुल 285 जहाज हैं। इसमें एक विमानवाहक पोत, 10 डेस्ट्रायर, 13 युद्धपोत हैं। वहीं 16 पनडुब्बियां, 139 पेट्रोलिंग नौकाएं हैं। इसके अलावा, 19 जंगी जहाज और 3 माइन वॉरफेयर हैं।

एशिया की बड़ी सैन्य ताक़तें

ग्लोबल फायरपावर सैन्य ताकत के लिहाज से एशियाई देशों की भी रैंकिंग की है। इसमें रूस, चीन, भारत, जापान, दक्षिण कोरिया, तुर्की, ईरान, पाकिस्तान, इंडोनेशिया और सऊदी अरब को टॉप-10 देशों में शामिल किया गया है।