सीएम योगी ने आशा बहुओं को दिया डबल गिफ्ट

0
10

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लखनऊ के लोक भवन में आयोजित कार्यक्रम में 80,000 आशा बहुओं को स्मार्ट फोन प्रदान करने साथ ही प्रतिमाह मानदेय में पांच सौ रुपया अतिरिक्त बढ़ाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आशा बहुओं को स्मार्ट फोन प्रदान करने के इस कार्यक्रम में कोरोना संक्रमण के दौर में उनके प्रबंधन की जमकर तारीफ की। इसके साथ ही एक अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2022 तक के लिए हर माह 500 रुपए के अतिरिक्त मानदेय की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आशा बहुओं को स्मार्ट फोन प्रदान करने के इस कार्यक्रम में कोरोना संक्रमण के दौर में उनके प्रबंधन की जमकर तारीफ की। इसके साथ ही एक अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2022 तक के लिए हर माह 500 रुपए के अतिरिक्त मानदेय की घोषणा भी की है। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि आशा बहनों को स्मार्टफोन उपलब्ध कराने के साथ उनके मानदेय व प्रोत्साहन भत्ते में बढ़ोतरी होने पर उन्हें बधाई। आप लोग कोविड प्रबंधन की अपनी जिम्मेदारी को इसी मजबूती के साथ आगे बढ़ाकर इस महामारी को प्रभावी ढंग से कंट्रोल करने में अपना योगदान देंगी। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि आपको(आशा कार्यकर्ताओं) 5300 मानदेय उपलब्ध हो पाता था। राज्य सरकार ने आपके कार्यों को देखते हुए राज्य सरकार की तरफ से मिलने वाली राशि को बढ़ाकर 1500 करने का फैसला किया है। इससे आप कम से कम 6,000 रुपये के एक फिक्स मानदेय तक पहुंच पाएंगे।

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 80 हजार आशा वर्करों को स्मार्ट फोन वितरित किया। राजधानी में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि शीघ्र ही अन्य 80 हजार आशा वर्कर्स को स्मार्ट फोन वितरित किया जाएगा। इस मौके पर उन्होंने आशा वर्कर, आशा संगिनी और एएनएम को तोहफा दिया। आशा वर्कर और आशा संगिनी का मानदेय 700 रुपए प्रतिमाह बढ़ाने की घोषणा की। वही एक अप्रैल 2020 से लेकर 31 मार्च 2022 तक कोविड-19 कालखंड में काम करने वाली आशा वर्करों को 500 रुपए प्रतिमाह के हिसाब से अतिरिक्त मानदेय दिया जाएगा। 24 महीने का यह अतिरिक्त मानदेय दिया जाएगा।

उन्होंने कोरोना से बचाव के लिए 20 करोड़ वैक्सीन लगाकर रिकार्ड बनाए जाने पर उन्होंने खुशी जताई। संविदा एएनएम को 60 दिनों की एकमुश्त दस हजार रुपए प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि पहले शिशु मृत्यु दर और मातृ मृत्यु दर में राष्ट्रीय औसत से उत्तर प्रदेश का औसत ज्यादा रहता था। अभी हाल ही में आए हेल्थ इंडेक्स में प्रदेश ने बेहतर प्रदर्शन किया है। 59 जिलों में अब मेडिकल कालेज है और दो जिलों में थ्री पी माडल पर खोले जा रहे हैं। बाकी जिलों में भी जल्द खुलेंगे और एक जनपद एक मेडिकल कालेज का सपना साकार होगा। उन्होंने कहा कि आज विश्व और पूरे देश में यूपी के कोविड प्रबंधन की प्रशंसा हो रही है। इसमें आशा वर्कर, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और एएनएम की महत्वपूर्ण भूमिका है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर से बचाव करने को तैयार हैं। प्रदेश में 551 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भावनाओं के अनुरूप हर जिला ऑक्सीजन आपूर्ति में आत्मनिर्भर हो गया है। हाल ही में प्रदेश में एक साथ पांच हजार से अधिक स्वास्थ्य केन्द्रों का लोकार्पण व शिलान्यास भी हुआ। भारत सरकार की स्टेट हेल्थ इंडेक्स 2019-20 की हाल में रिपोर्ट में देश के 19 बड़े राज्यों में उत्तर प्रदेश ने इंक्रीमेंटल रैंकिंग में पहला स्थान प्राप्त किया है। आज का यह कार्यक्रम बहुत महत्वपूर्ण है। आप समयबद्ध ढंग से अपनी उपलब्धियों को शासन के संज्ञान में ला देंगे तो शासन से मिलने वाला आपका मानदेय समय पर आपके पास पहुंच जाएगा। इस अवसर पर प्रदेश की सभी आशा बहनों को हृदय से बधाई देता हूं, अभिनंदन करता हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here