Saturday, September 25, 2021
Homeखेलओलिंपिक में इस प्रारूप में खेली जा सकती है क्रिकेट, सामने आई...

ओलिंपिक में इस प्रारूप में खेली जा सकती है क्रिकेट, सामने आई वजह

क्रिकेट को भी ओलिंपिक खेलों में शामिल किया जा रहा है, लेकिन अभी तक ये स्पष्ट नहीं है कि कौन सा प्रारूप इसमें शामिल होगा। मौजूदा समय में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीन फॉर्मेट हैं, लेकिन प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में कुल पांच प्रारूप हैं। अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में टेस्ट, वनडे और टी20 क्रिकेट शामिल है, लेकिन प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में इन प्रारूपों के अलावा टी10 क्रिकेट और अब हंड्रेड लीग वाला प्रारूप भी शामिल हो गया है।

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी 2028 में होने वाले ओलिंपिक खेलों के लिए क्रिकेट में टी20 प्रारूप को अपनाने पर विचार कर रही है क्योंकि आइपीएल ने इस प्रारूप को दुनिया भर में काफी लोकप्रिय बनाने का काम किया है।

क्रिकेट का छोटा प्रारूप यानी टी20 क्रिकेट को ओलिंपिक के लिए तैयार किया गया है, लेकिन खेल के प्रशासक किसी भी प्रारूप पर विचार करेंगे जो खेल को 2028 के लास एंजिल्स खेलों में शामिल करना सुनिश्चित करेगा। ये कहना है यूएसए क्रिकेट प्रमुख पराग मराठे का। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आइसीसी) खेल की ओलिंपिक में वापसी के लिए बोली लगाने की तैयारी कर रहा है, जो आखिरी बार 1900 के पेरिस खेलों में खेला गया था।

मराठे आइसीसी ओलिंपिक वर्किंग ग्रुप का हिस्सा हैं, जिसकी अध्यक्षता इंग्लिश बोर्ड के प्रमुख इयान वाटमोर करते हैं और इसमें पेप्सिको इंक की पूर्व सीईओ इंदिरा नूयी भी शामिल हैं। मराठे ने स्पोर्ट अनलाक्ड पोडकास्ट को बताया, “मुझे उम्मीद है कि इसकी बहुत संभावना है। पहली बार आइसीसी के 106 सदस्य देशों ने ओलिंपिक में क्रिकेट को शामिल करने का समर्थन किया है।”

टी20 क्रिकेट, जो टेस्ट के पांच दिनों के विपरीत लगभग तीन घंटे तक चलता है। कैश-रिच इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) की निरंतर लोकप्रियता ने इस फार्मेट को बढ़ावा दिया है। उधर, इंग्लैंड में हंड्रेड लीग का पहला सीजन भी लोकप्रिय हुआ है, जिसमें 100-100 गेंद दोनों टीमों को खेलने को मिलती हैं। इस प्रारूप ने भी अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) को एक और विकल्प प्रदान किया है।

वहीं, मराठे ने कहा है, “मुझे लगता है कि टी20 प्रारूप वह है जो आसानी से पच जाता है और काम करता है। यह निश्चित रूप से एक समय के नजरिए से काम करता है। यह अमेरिकी खेलों के प्रारूप में लगभग तीन घंटे फिट बैठता है। यह आइपीएल की सफलता के कारण समझा जाने वाला प्रारूप है, लेकिन निश्चित रूप से हम आइओसी के साथ काम करेंगे और अगर कोई अलग प्रारूप है जो वे पसंद करते हैं तो हम इसके लिए तैयार हैं। हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज खेलों में क्रिकेट को लाना है। हम सोचते हैं कि टी20 शायद सबसे अच्छा है।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments