Friday, September 17, 2021
Homeउत्तर-प्रदेशईनामी योजनाओं के नाम पर साइबर ठगी

ईनामी योजनाओं के नाम पर साइबर ठगी

लखनऊ में साइबर ठगों ने ठगी का नया तरीका खोज निकाला है। यह लोग अब मोबाइल पर कौन बनेगा करोड़पति और ऑनलाइन शॉपिंग के ईनामी कूपन के नाम पर लोगों को मोबाइल पर मैसेज भेज रहे हैं। जिन्हें ईनाम का झांसा देकर फोन करने को कहते हैं। ताकि लोग इनाम के झांसे में आसानी से उनके जाल में फंस जाए। उसके बाद इनाम का पैसा ट्रांसफर करने लिए एकाउंट नंबर की डिटेल मांगतें है और फिर पूरा पैसा निकाल लेते हैं। लखनऊ में कुछ लोगों को ठगों ने घर के पते पर भी इनामी योजना का पत्र भेजा है।

एसीपी साइबर क्राइम विवेक रंजन राय ने बताया कि साइबर ठग ने अब मोबाइल कॉल, मैसेज के साथ ही डाक से नामचीन कंपनी के नाम पर इनामी योजना चलाकर लोगों को फंसा रहे हैं। इसके लिए लोगों को मोबाइल पर आडियो मैसेज और घरों में डाक के माध्यम से चिट्ठी भेज रहे हैं। पिछले दिनों ऐसे पांच-छह मामले सामने आए हैं। जिसको लेकर लोगों को सजग रहने को कहा गया है। वहीं एक टीम को खुलासा के लिए लगाया गया है।

कौन बनेगा करोड़ पति में आपका 25 लाख का इनाम निकाला है

न्यू हैदराबाद के राकेश के पास पिछले दिनों मैसेज आया कि आपने कौन बनेगा करोड़ पति में आपका 25 लाख रुपये इनाम निकला है। आपको मैसेज में दिए गए नंबर पर व्हाट्सएप कॉल करनी है। जो एसबीआई के बैंक मैनेजर का है। उन्होंने कॉल मिलाई तो उधर के बोलने वाले ने खुद को एसबीआई मुंबई का मैनेजर बताया। उसने उनके खाते की जानकारी मांगनी शुरू की तो उन्होंने ठगी होने की आशंका पर फोन काट दिया।

इस तरह लोगों के पास आ रहा कूपन।
इस तरह लोगों के पास आ रहा कूपन।

इंदिरानगर की एक महिला के पास आया इनमी योजना का पत्र

इंदिरा नगर सी ब्लाक निवासी रश्मि के पास पिछले दिनों एक ऑनलाइन शॉपिंग साइट की तरफ से इनामी योजना का एक पत्र आया। उसमें नाप-तोल की साइट की 12वीं वर्षगांठ का हवाला देते हुए लकी ड्रा में उनका नाम निकलने की बात लिखी थी। साथ ही एक इनामी कूपन भी था। जिसे स्क्रैच कर उसमें लिखे मोबाइल नंबर बताना था। लेटर हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषा में था। कोई शक न करे इसके लिए कॉल करने के लिए कंपनी का हेल्प लाइन नंबर 8420657692 दिया गया।

ऐसे हो रही ठगी

साइबर ठग इनामी योजना के झांसे में आने वालों के एकाउंट नंबर मिलते ही उसको पैसा ट्रांसफर करने की जानकारी देते है। साथ ही इस पैसे को निकालने के लिए 18 प्रतिशत जीएसटी देने की बात कहते हैं। एकाउंट में पैसा आने की जानकारी पर वह उनके जाल में फंसकर दूसरे एकाउंट नंबर की डिटेल दे देता है। जिससे ठग पूरा पैसा निकाल लेते हैं।

इनामी योजना के मैजेस या पत्र आने पर रहे सावधान

कोई भी कंपनी इस तरह इनामी योजना के मैजेस व पत्र नहीं भेजती
पत्र व मैसेज की प्रमाणिकता का पता करें।
संबंधित कंपनी की रजिस्टर्ड वेबसाइट को चेक करें।
किसी से भी एकाउंट डिटेल साझा न करें।
अकाउंट में अचानक पैसा आने व निकलने पर बैंक व पुलिस को सूचना दें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments