Monday, September 27, 2021
Homeदिल्लीदिल्ली : संसद से मंत्री गैर हाजिर, माेदी बाेले-राेज शाम मुझे नाम...

दिल्ली : संसद से मंत्री गैर हाजिर, माेदी बाेले-राेज शाम मुझे नाम बताओ , सुधार देंगे इन्हें

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने मंगलवार काे संसद से गैर हाजिर रहने वाले केंद्रीय मंत्रियाें काे कड़ी फटकार लगाई। उन्हाेंने कहा कि राेस्टर ड्यूटी पर सदन में नहीं बैठने वाले मंत्रियाें के नाम हर शाम उन्हें बताए जाएं। सूत्राें के अनुसार प्रधानमंत्री ने मंच से कहा, “अगर यह लाेग खुद नहीं सुधरे ताे हम इन्हें सुधार देंगे।’ मंत्रियाें के खिलाफ प्रधानमंत्री की नाराजगी भाजपा संसदीय दल की बैठक में सामने अाई। एक महीने में यह दूसरा माैका है, जब प्रधानमंत्री ने संसद में गैर हाजिरी पर नाराजगी जताई है।

पिछले दिनाें उन्हाेंने सदन से गैर हाजिर रहने वाले सांसदाें की भी इस बैठक में खिंचाई की थी। सूत्राें के अनुसार प्रधानमंत्री ने कहा कि सदन में माैजूद रहने की नसीहत सिर्फ सांसदाें पर नहीं, बल्कि मंत्रियाें पर भी उतनी ही लागू हाेती है। मंत्रियाें काे कड़ाई से राेस्टर ड्यूटी के पालन की नसीहत देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह खुद काे मिली जिम्मेदारियां पूरी करें। भाजपा सूत्राें के अनुसार कई माैके ऐसे रहे, जब कैबिनेट मंत्रियाें और उनके राज्य मंत्रियाें काे राज्यसभा या लाेकसभा में माैजूद रहना था लेकिन वह गैर हाजिर मिले।

विपक्ष भी अक्सर सदन में मंत्रियाें की गैर हाजिरी का मुद्दा उठाता रहा है। सूत्राें के अनुसार बैठक में माेदी ने कहा कि सरकार का विधायी एजेंडा पारित करवाने के लिए अगर जरूरी हुआ ताे संसद सत्र आगे भी बढ़ाया जा सकता है। हालांकि, सूत्राें ने स्पष्ट किया कि अभी सत्र बढ़ाना सरकार के एजेंडे में शामिल नहीं है। सत्र 26 जुलाई काे खत्म हाेगा।

विपक्ष के सहयाेग के बावजूद एनआईए बिल पर भाजपा सांसदाें की संख्या से भी कम वाेट मिले

  • साेमवार काे लाेकसभा में एनआईए बिल पर चर्चा के दाैरान ए आईएम आईएम के नेता ओवैसी ने मत विभाजन की मांग कर दी थी। विपक्ष के समर्थन के बावजूद बिल के पक्ष में 278 मत पड़े थे। यह संख्या भाजपा सांसदाें की संख्या 303 से भी कम है। दौरान भाजपा के करीब 60 सांसद गैरहाजिर थे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की माैजूदगी में हुए इस घटनाक्रम की रिपाेर्ट प्रधानमंत्री माेदी तक पहुंची थी। इस
  • राेस्टर में अमूमन एक दिन में तीन मंत्रियाें की ड्यूटी हाेती है। इन्हें दाे-दाे घंटे सदन में बैठना हाेता है। सूत्राें के अनुसार भाजपा नेतृत्व लंबे समय से देख रहा था कि मंत्री अपनी बारी पर नहीं पहुंचते थे। काेई बड़ा मंत्री बैठा दिखता ताे वह चुपचाप निकल जाते। नियमानुसार राेस्टर ड्यूटी पर कैबिनेट और राज्य मंत्री का सदन में माैजूद रहना जरूरी है।
  • सांसदाें काे नसीहत- ऐसे काम करें, जिनसे आपकाे याद किया जाए:
  • संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जाेशी के अनुसार प्रधानमंत्री माेदी ने सांसदाें काे नसीहत दी कि वह अपने क्षेत्राें के विकास में अग्रणी भूमिका उठाएं। साथ ही मानवीय संवेदनाओ से जुड़े काम जैसे काेढ़ या टीबी के प्रति जागरूकता और जल संरक्षण जैसे काम हाथ में लें। माेदी ने सांसदाें से कहा कि पहला प्रभाव ही आखिरी हाेता है। पार्टी के बड़ी संख्या में पहली बार निर्वाचित सांसदाें से उन्हाेंने कहा कि वह अपनी जिम्मेदारियाें के अलावा ऐसे काम हाथ में लें, जिसके लिए उन्हें याद किया जाए।

गैर हाजिरी पर अजीब दलीलें हेमा बाेलीं- नातिन के नामकरण में गई थीं

पिछले दिनों एक महत्वपूर्ण बिल के समय लोकसभा से गैर हाजिर सांसदों काे लेकर पीएम माेदी ने संसदीय कार्य मंत्री से रिपोर्ट मांगी थी। इस पर सांसदाें से गैर हाजिरी का कारण पूछा गया था। जवाब में करीब 57 सांसदों ने बताया कि वह संसद में थे लेकिन जब तक उन्हें बिल की जानकारी हुई, लोकसभा के दरवाजे बंद हो गए थे। आगरा के सांसद एसपी सिंह बघेल ने बताया कि वह एम्स गए थे।  वहां से लौटते देर हो गई। हेमा मालिनी ने बताया कि वह अपनी नातिन के नामकरण संस्कार में शामिल होने मुंबई गई थीं। वरुण गांधी ने कहा कि अपने क्षेत्र के एक कार्यक्रम में शामिल हाेने के कारण वह सदन में नहीं अा पाए। वहीं, उनकी मां मेनका गांधी ने बताया कि उनके पास इस बिल की काेई सूचना नहीं थी। कुछ सांसदों ने लिखा कि वह लाइब्रेरी में पढ़ रहे थे इसलिए नहीं आ पाए। जबकि कुछ ने लिखा है कि सूचना के अभाव में वह सदन में नहीं पहुंच पाए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments