Sunday, September 19, 2021
Homeहरियाणाअस्पताल के टॉयलेट में खुद डिलीवरी कर, बच्चे काे फ्लश में छाेड़...

अस्पताल के टॉयलेट में खुद डिलीवरी कर, बच्चे काे फ्लश में छाेड़ गई

कैंट सिविल अस्पताल में हैरान कर देने वाला मामला सोमवार को सामने आया। मध्य रात्रि ढाई बजे गर्भवती महिला अपने परिवार के सदस्यों के साथ यह कहकर सिविल अस्पताल में दाखिल हुई कि वह 4 माह से गभर्वती है और उसे दर्द हो रहा है। ड्यूटी पर नर्सिंग स्टाफ ने महिला को इंजेक्शन व दवा देकर आराम करने की सलाह दी। मगर इसी बीच महिला स्टाफ की नजरों से बचती हुई प्रसूता वार्ड के टॉयलेट में चली गई और कुछ समय बाद बाहर आकर बेड पर लेट गई। यहां स्टाफ ने उसका फिर उपचार किया।कुछ समय बाद टॉयलेट से बच्चे के रोने की आवाजें सुनाई दी। इसके बाद जब नर्सिंग स्टाफ ने टॉयलेट खोला तो टॉयलेट के फ्लश टैंक में एक शिशु मिला। उसे तुरंत बाहर निकाला गया जिसके बाद उसे निक्कू वार्ड में भर्ती कराया गया। स्टाफ को समझने में देर नहीं लगी कि कुछ समय पहले आई गर्भवती महिला ने ही इस शिशु को जन्म दिया। अस्पताल में तड़के इस मामले को लेकर हंगामा हो गया। इसके बाद मामले की जानकारी अस्पताल में तैनात पुलिस को दी गई। पुलिस ने परिजनों से मामले को लेकर पूछताछ की जिसके बाद परिवार ने गलती मानी और कहा कि महिला की दिमागी हालत ठीक नहीं थी जिस कारण वह टॉयलेट में ही शिशु को जन्म देकर बाहर आ गई थी। फिलहाल अब इस मामले में पुलिस की ओर से भी कोई कार्रवाई अमल में नहीं गई और जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ है। परिजन इलाज प्राइवेट अस्पताल में कराने की बात कहकर सिविल अस्पताल सोमवार शाम चले गए थे।

रात ढाई बजे अस्पताल में आई थी गर्भवती

करीब साढ़े तीन बजे के महिला टॉयलेट गई और काफी देर बाद बाहर आई। उसकी हालत तब ठीक नहीं थी, जिस पर स्टाफ ने तुरंत उसकी ड्रेसिंग की। स्टाफ ने गर्भ के बारे पूछा तो उसने कहा कि बच्चा घर में ही गिर गया है। कुछ समय बाद टॉयलेट से बच्चे के रोकने की आवाजें सुन स्टाफ ने टायलेट फ्लश टैंक से शिशु को निकाला। यह लड़का था जिसका करीब 2 किलो वजन था। स्टाफ ने महिला व उसके साथ आए परिजनों से सख्ती की व पुलिस को सूचना दी। परिवार ने इसके बाद पुलिस के समक्ष अपनी गलती मानी। महिला ने सिविल अस्पताल के टॉयलेट में ही बच्चे को जन्म दिया था और दातों से नाल तक काट ली थी। परिजनों ने पुलिस को कहा कि महिला की हालत ठीक नहीं है और वह दिमागी तौर पर बीमार है। मगर परिजनों के यह बयान पुलिस व अस्पताल स्टाफ के गले से नीचे नहीं उतर रहे थे। बताते हैं कि महिला को गर्भ 9 माह से था, मगर अस्पताल स्टाफ से उसने यह बात क्यों छिपाई इसका खुलासा नहीं हो सका है।

टॉयलेट में शिशु होने की जानकारी मिलने पर शिशु को निकाला गया। मामले की पुलिस को जानकारी दी गई थी। महिला के परिजनों ने बयान दिए हैं कि महिला की मानसिक हालत ठीक नहीं जिस कारण यह गड़बड़ी हुई। फिलहाल परिजन बच्चे व महिला को यहां से लेकर चले गए हैं ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments