Sunday, September 19, 2021
Homeदिल्लीउपमुख्यमंत्री की डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस,दिल्ली में हर रोज कम से कम 700...

उपमुख्यमंत्री की डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस,दिल्ली में हर रोज कम से कम 700 टन ऑक्सीजन की सप्लाई हो

दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत फिर से होने लगी है। यह बात दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को दी। सिसोदिया ने कहा कि बीते दिन दिल्ली को सिर्फ 487 मीट्रिक टन ऑक्सीजन ही मिली, जबकि हमारी जरूरत हर दिन कम से कम 700 मीट्रिक टन की है। सिसोदिया ने कहा कि उन्होंने केंद्र सरकार से अपील की कि हर दिन कम से कम 700 मीट्रिक टन सप्लाई सुनिश्चित की जाए। जिससे ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की मौत नहीं हो।

सिसोदिया ने कहा कि अगर हर दिन 700 टन ऑक्सीजन मिल जाए तो तो अभी के समय के हिसाब से यह पर्याप्त है, लेकिन आगामी दिनों में जिस तरह हम और बैड्स की व्यवस्था कर रहे हैं, उसके हिसाब से 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन चाहिए। उपमुख्यमंत्री ने बताया कि 5 मई को दिल्ली को पहली बार 730 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिली, उसके लिए हम केंद्र सरकार के शुक्रगुजार हैं।

सिसोदिया ने कहा कि केंद्र सरकार से हमारा अनुरोध है कि अभी के हिसाब से 700 मीट्रिक टन में भी कंप्रोमाइज करना ठीक नहीं है। हालांकि, दिल्ली सरकार का प्लान है ऑक्सीजन इंफ्रास्ट्रक्चर को आगे बढ़ाना और उसके लिए हमें और ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत पड़ेगी। वर्तमान में, जो 700 मीट्रिक टन की जरूरत है, उसमें कमी ना करें।

‘बीते दो दिनों में मिली 577 और 487 टन सप्लाई’

सिसोदिया ने बताया कि 6 मई को 577 मीट्रिक टन और 7 मई को 487 मीट्रिक टन ऑक्सीजन ही मिली. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इतनी कम सप्लाई में अस्पतालों में ऑक्सीजन की जरूरत पूरी कर पाना काफी मुश्किल है। सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी का जिक्र करते हुए सिसोदिया ने कहा कि कोर्ट की तरफ से भी कहा गया था कि दिल्ली की ऑक्सीजन की जरूरत को पूरा किया जाए।

‘मैनेजमेंट में केंद्र के सहयोग की जरूरत’
सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार द्वारा दी गई जानकारी का हवाला देते हुए सिसोदिया ने कहा कि देश में हर दिन साढ़े 7-8 हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है, जबकि उत्पादन हर दिन 10 हजार मीट्रिक टन है। ऐसे में जरूरत है मैनेजमेंट की है। हमें केंद्र से मैनेजमेंट में ही सहयोग चाहिए। जिस तरह एक दिन अच्छा मैनजेमेंट करके दिल्ली को 730 मीट्रिक टन सप्लाई मिली, उस तरह का सहयोग हर दिन किया जाए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments