Tuesday, September 21, 2021
Homeराज्यगुजरातउत्तर गुजरात की 18 तहसीलों में मंडरा रहा सूखे का संकट

उत्तर गुजरात की 18 तहसीलों में मंडरा रहा सूखे का संकट

बारिश का सीजन खत्म होने में 52 दिन बाकी है। लेकिन, गुजरात की 12 तहसीलों में 10 इंच से भी कम बारिश हुई है। सरकार के मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के 11 जून-2021 के प्रस्ताव के अनुसार जिन तहसीलों में 10 इंच से कम बारिश होगी अथवा 31 अगस्त तक 28 दिन लगातार बारिश नहीं होगी तो उन तहसीलों को सूखाग्रस्त माना जाएगा। आज की स्थिति में उत्तर गुजरात में महेसाणा जिले की 4, पाटण की 6 और बनासकांठा की 8 तहसीलों पर सूखे का खतरा मंडरा रहा है।

फाइल फोटो।
फाइल फोटो।

उत्तर गुजरात में अभी तक सीजन की बारिश के 5 राउंड में से केवल 2 राउंड में ही अच्छी बारिश हुई है, जबकि 3 राउंड बेकार गई। इसके साथ ही सूखे की संभावनाएं प्रबल हो रही हैं। बनासकांठा की सुइगाम तहसील में 40 दिनों से बारिश नहीं होने से सूखे की चपेट में है। दूसरी ओर 31 अगस्त तक अगर बारिश नहीं हुई तो 17 और तहसीलें सूखे की चपेट में आ जाएंगी। बता दें, महेसाणा जिले की 4, पाटण की 6 और बनासकांठा की 8 तहसीलों पर सूखे का खतरा मंडरा रहा है।

इन तहसीलों में सूखे का खतरा

महेसाणा: बहुचराजी, जोटाणा, महेसाणा, विसनगर
पाटण: सांतलपुर, चाणस्मा, हारिज, पाटण, राधनपुर, सरस्वती
बनासकांठा: दांतीवाड़ा, दियोदर, लाखाणी, थराद, वाव, वडगाम, अमीरगढ़

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments