डिलीवरी में बच्चे का सिर कटकर डॉक्टर के हाथ में आया, धड़ मां के गर्भ में छूटा

0
14

लोगों की दिल उस समय दहल गया जब लोगों ने सुना कि नवजात बच्चे का डिलीवरी के समय सिर कट गया और धड़ मां के गर्भ में ही छूट गया. ये दर्दनाक घटना है तेलंगाना के नागरकुरनूल जिले के अछमपेट अस्पताल की.

ये दर्दनाक घटना अछमपेट अस्ताल की है
नागरकुरनूल जिले के नादिमपल्ली गांव के 23 वर्षीय स्वाति गर्भवती थीं. उन्हें 18 दिसंबर को अछमपेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनसे डॉक्टरों ने कहा था कि सामान्य डिलीवरी होगी.

डिलीवरी में बच्चे का सिर कटकर डॉक्टर के हाथ में आया, धड़ मां के गर्भ में छूटा

भरोसा दिलाया था, सबकुछ सही होगा
स्वाति के रिश्तेदारों ने कहा कि डॉक्टरों ने कहा था कि सबकुछ सही होगा. स्वाति के साथ कोई मेडिकल समस्या नहीं है.

पहले डिलीवरी के लिए ले गए, थोड़ी देर बाद रेफर किया
स्वाति ने बताया कि अछमपेट अस्पताल में पहले मुझे एक इंजेक्शन दिया गया. फिर लेबर रूम में ले जाया गया. वहां डॉक्टर सुधा रानी दो पुरुष डॉक्टरों के साथ मेरी डिलीवरी करा रही थीं. लेकिन थोड़ी देर बाद मुझे कहा गया कि स्थिति बिगड़ रही है, आपको हैदराबाद के पेटलाबुर्ज मैटरनिटी अस्पताल में रेफर कर रहे हैं.

डिलीवरी में बच्चे का सिर कटकर डॉक्टर के हाथ में आया, धड़ मां के गर्भ में छूटा

पेटलाबुर्ज में पता चला कि बच्चे का सिर कट गया
स्वाति ने बताया कि जब पेटलाबुर्ज में डॉक्टरों ने मुझे देखा तो मेरे पति और परिजनों के बताया गया कि अछमपेट अस्पताल में नॉर्मल डिलीवरी नहीं कराई गई. सीजेरिया कराया जा रहा था तभी बच्चे का सिर कट गया. धड़ अब भी गर्भवती के शरीर में ही है.

बाद में निकाला गया गर्भ से धड़
हैदराबाद के पेटलाबुर्ज अस्पताल के डॉक्टरों ने इसके बाद वापस ऑपरेशन करके स्वाति के गर्भ से सिर कटे हुए बच्चे का धड़ निकाला.

डिलीवरी में बच्चे का सिर कटकर डॉक्टर के हाथ में आया, धड़ मां के गर्भ में छूटा

रिश्तेदारों ने अछमपेट अस्पताल में की तोड़फोड़
इस घटना से नाराज स्वाति के रिश्तेदारों ने नागरकुरनूल जिले के अछमपेट अस्पताल में तोड़फो़ड़ की. फर्नीचर तोड़ दिए. इसके बाद जिलाधिकारी और जिले के मेडिकल हेल्थ अफस से शिकायत की. तत्काल डॉक्टर सुधा रानी को सस्पेंड कर दिया गया. जांच कमेटी बनाई गई है.