शिक्षा भर्ती घोटाला केस : अर्पिता मुखर्जी के घर से मिले ED को 20 करोड़ केस

0
30

के शिक्षा मंत्री घोटाले की जांच के दौरान 20 करोड़ रुपये कैश बरामद होने के बाद बंगाल में सियासी हलचल तेज हो गई है। भाजपा को तृणमूल कांग्रेस को घेरने का एक मौका मिल गया है। हालांकि, टीएमसी ने अर्पिता मुखर्जी से पल्‍ला झाड़ना शुरू कर दिया है, जिनके घर से प्रवर्तन निदेशालय की छापेमारी में 20 करोड़ रुपये मिले हैं। इस बीच भाजपा ने अर्पिता को बंगाल के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी का करीबी बताते हुए हमला किया है। आइए आपको बताते हैं कि आखिर कौ हैं अर्पिता मुखर्जी? क्‍यों बंगाल के शिक्षा मंत्री से जुड़ रहा है अर्पिता का नाम?

पश्चिम बंगाल में घोटाले की जांच इडी कर रही है। अर्पिता मुखर्जी के घर पर इडी ने छापेमारी के दौरान करीब 20 करोड़ कैश बरामद हुआ है। वहीं, पार्थ चटर्जी के घर पर भी शुक्रवार से ही इडी की छापेमारी चल रही है। अर्पिता बांग्‍ला फिल्‍म इंडस्‍ट्री से जुड़ी रही हैं। उन्‍होंने कई फिल्‍मों में काम किया है। हालांकि, लीड रोल की जगह वह ज्‍यादातर फिल्‍मों में साइड रोल में ही नजर आई हैं। बांग्‍ला के अलावा अर्पिता ने ओडिया और तमिल फिल्‍मों में भी काम किया है। अर्पिता सुपरस्टार प्रसेनजीत और जीत अभिनीत बांग्ला फिल्मों में साइड रोल करने के दौरान चर्चा में आई थीं। वहीं, अर्पिता को बांग्‍ला फिल्म ‘अमर अंतरनाड’ में भी अभिनय के दौरान नोटिस किया गया था।

दरअसल, दुर्गा पूजा समिति नकटला उदयन से अर्पिता और पार्थ दोनों जुड़े रहे हैं। पार्थ चटर्जी कोलकाता की इस लोकप्रिय दुर्गा पूजा समिति का संचालन करते रहे हैं। बताया जा रहा है कि अर्पिता 2019 और 2020 में दुर्गा पूजा समिति नकटला उदयन का चेहरा रही हैं। इसी दुर्गा समिति से पार्थ और अर्पिता के तार जुड़े हैं। इस समिति के दुर्गा पूजा कार्यक्रम का उद्धाटन मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी भी कर चुकी हैं। ऐसे में भाजपा शिक्षा भर्ती घोटाले में ममता, पार्थ और अर्पिता को जोड़कर पेश कर रही है। भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने इस दुर्गा पूजा के कार्यक्रम से जुड़ी कुछ तस्‍वीरों भी शेयर की हैं, जिनमें ममता, पार्थ और अर्पिता मंच साझा करते हुए नजर आ रहे हैं।

अर्पिता के घर से इडी की जांच में 20 करोड़ रुपये बरामद होने के बाद टीएमसी बैकफुट पर नजर आ रही है। टीएमसी ने आधिकारिक बयान जारी कर खुद को इस घोटाले में शामिल होने की खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है। बयान में कहा गया है कि टीएमसी का बरामद किए गए 20 करोड़ रुपयों से कोई लेना देना नहीं है। जांच में जिनके भी नाम सामने आए हैं, जवाब देना उनका और उनके वकीलों का काम है। हालांकि, भाजपा लगातार इस मुद्दे पर टीएमसी पर हमला कर रही है।

  • बंगाल के शिक्षक भर्ती घोटाले में मंत्रियों और उनके करीबियों के साथ 14 स्थानों पर मारा छापा
  • मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी महिला के घर से 20 करोड़ रुपये, 20 कीमती मोबाइल फोन, विदेशी मुद्रा, सोना, जमीन के दस्तावेज भी बरामद
  • लंबी पूछताछ के चलते पार्थ चटर्जी की तबीयत बिगड़ी, ईडी ने चिकित्सक बुलाकर घर पर ही कराया इलाज

इसी बीच एक वादी ने शुक्रवार को कलकत्ता हाई कोर्ट में याचिका दायर कर दावा किया कि पार्थ चटर्जी के करीबी 10 लोगों को अवैध रूप से नौकरी मिली है। वे सभी उनके सुरक्षा गार्ड के रिश्तेदार हैं। अगले हफ्ते हाई कोर्ट याचिका पर सुनवाई कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here