वित्त मंत्रालय की सिफारिश पर ब्याज दर में कटौती नहीं करेगा EPFO

0
15

नई दिल्ली। श्रम मंत्रालय और कर्मचारी भविष्य निधि संगठन वित्त वर्ष 2018-19 में पीएफ पर 8.65% की दर से ब्याज देने के प्रस्ताव पर अडिग हैं। ईपीएफओ के बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज ने पर्याप्त रकम होने का हवाला देकर पीएफ पर ब्याज दर बढ़ाने का फैसला लिया था। साथ ही, लोकसभा चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी सरकार ने भी पीएफ की ब्याज दर बढ़ाने का ऐलान किया था।

वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2018-19 में पीएफ पर ब्याज दर बढ़ाकर 8.65% दिए जाने के प्रस्ताव का विरोध करते हुए फैसले पर दोबारा विचार करने को कहा है। वित्त मंत्रालय का विरोध ऐसे वक्त में आया है जब बैंक फंडिंग की ऊंची लागत का हवाला देकर कर्ज पर ब्याज दर घटाने से इनकार कर रहे हैं। साथ ही, वह जमा रकम पर भी ज्यादा ब्याज नहीं दे रहे हैं।

बैंकों का डर
बैंकों की दलील है कि पीएफ जैसी छोटी बचत योजनाओं और ईपीएफओ की ओर से ऊंची ब्याज दर दिए जाने के कारण लोग उनके पास रकम जमा नहीं कराना चाहेंगे, जिससे उन्हें फंड जुटाने में आ रही समस्या बढ़ेगी। ध्यान रहे कि ईपीएफओ ने वित्त वर्ष 2017-18 में पीएफ पर 8.55% की दर से ब्याज दिया था।

ईपीएफओ में कई अधिकारी वित्त मंत्रालय के विरोध को एक रूटीन प्रतिक्रया के रूप में ले रहे हैं और इस तरह की दलील में कोई दम नहीं देख रहे। मसलन, सूत्रों ने कहा कि ज्यादा दर से ब्याज देने के बावजूद ईपीएफओ के पास 150 करोड़ रुपये अतिरिक्त बच जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here