Friday, September 17, 2021
Homeमहाराष्ट्रLoC पार करने वाले फौजी चंदू ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मांगी...

LoC पार करने वाले फौजी चंदू ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मांगी इच्छामृत्यु

  • चंदू को 2016 में पाक रेंजर्स ने पकड़ा
  • 4 महीने प्रताड़ना के बाद पाक ने छोड़ा
  • अब इच्छा मृत्यु के लिए चंदू ने लिखा पत्र

भारतीय फौजी चंदू चौहान स्वेच्छा मृत्यु चाहता है. चंदू चौहान वही फौजी है जो 3 साल पहले 29 सितंबर के दिन सुबह साढ़े बजे पुंछ सेक्टर से लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पार करके पाकिस्तान में चला गया था. पाक के कब्जे में वह करीब 4 महीने रहा, बाद में उसे छोड़ दिया गया.

अहमदनगर जिलाधिकारी को भेजे अपने खत में फौजी चंदू चौहान ने भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और रक्षा मंत्री से गुजारिश की है कि उसे स्वेच्छा मरण चाहिए क्योंकि अहमदनगर स्थित जिस यूनिट में उसकी पोस्टिंग है, वहां के आला अधिकारी उसे लगातार अपमानित कर रहे हैं.

क्या था चंदू चौहान का दावा?

अब तक चंदू चौहान दावा कर रहा था कि वो गलती से LoC पार करके पाकिस्तान पहुंच गया था. लेकिन अब चंदू चौहान ने चौंकाने वाला खुलासा किया है जो हर किसी को चौंका देगा.

यह पहली बार है कि चंदू चौहान ने आजतक को कोर्ट मार्शल के वक्त लिए बयान के बारे में बताया है. इस लिखित बयान में चंदू चौहान ने सेना के वरिष्ठ अधिकारियों को बताया कि 2016 में पाकिस्तान की ओर से बैट टीम ऑपरेशन के वक्त दो भारतीय फौजियों की हत्या कर दी गई थी. उनके गर्दन काटकर पाकिस्तानी फौजी LoC पार ले गए थे.

इसके बाद हुआ उरी आतंकवादी हमला भी उसे और उसके पोस्ट के फौजी जवानों को सता रहा था. और इसी जोश में एक दिन वह होश खो बैठा और 29 सितंबर की सुबह छत्रपति शिवाजी महाराज के देशभक्ति वाले गाने सुनते वक्त उसके मन में आया कि उसे बदला लेना है.

दोस्तों के मना करने पर तान दी AK 47

इसके बाद चंदू चौहान साथी फौजी का एक एके 47 लोडेड मगझिन और सूखा मेवा लेकर निकल पड़ा. उसके दोस्तों ने चंदू को रोकने की भरपूर कोशिश की. लेकिन उसने बंदूक उसके साथी फौजियों पर तान दी और वहां से निकल गया.

उस दिन सुबह साढ़े बजे से शाम 4 बजे तक चंदू चौहान चलता रहा. उसे पाकिस्तान में गांव भी दिखे, खेती भी दिखाई दी और गाय-भैंस भी दिखे, लेकिन वह पाकिस्तान गांव की ओर नहीं गया क्योंकि वह जनता को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहता था. वह सिर्फ पाकिस्तानी फौजियों को मौत के घाट उतारना चाहता था.

पाक पोस्ट पर चढ़ते ही मिली मार

चंदू ने सीधे पाकिस्तानी पोस्ट की ओर पीछे से चढ़ना शुरू किया. वह पाकिस्तानी पोस्ट पर थोड़ा चढ़ा ही था कि किसी ने पीछे से मारा और जब उसे होश आया तो वह पाकिस्तानी फौज की जेल में था.

अगले तीन महीने 21 दिन तक चंदू पाकिस्तान में थर्ड डिग्री टॉर्चर का सामना करता रहा और आखिरकार 21 जनवरी 2017 को चंदू को पाकिस्तान ने रिहा कर दिया.

तब से आजतक चंदू के मुताबिक सीनियर फौजियों ने उसका मजाक बनाया. पाकिस्तान से लौटने के बाद सेना में कुछ लोगों ने चंदू को इतना परेशान किया कि उसे नौकरी छोड़नी पड़ गई. कुछ ने उसे भगोड़ा तक कहा, इन सभी बातों से चंदू परेशान है और इसीलिए वह स्वेच्छा मरण चाहता है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments