Tuesday, September 28, 2021
Homeहरियाणाजिंदगी-मौत के बीच कोरोना से लड़ते हुए वेंटिलेटर पर दिया था बच्ची...

जिंदगी-मौत के बीच कोरोना से लड़ते हुए वेंटिलेटर पर दिया था बच्ची को जन्म, मां-बेटी के लिए दुआएं

अस्पताल में वेंटिलेटर पर रहते बच्ची को जन्म देने वाली मां जसलीन की हालत कुछ सुधरने लगी है, लेकिन अभी तक उसकी जिंदगी वेंटिलेटर के ही सहारे है। वहीं, राहत की खबर यह है कि मासूम बेटी अब खुद सांसें ले रही है। उसे वेंटिलेटर से हटा लिया है। डाॅक्टरों को उम्मीद है कि बेटी जल्द पूरी तरह से स्वस्थ हो जाएगी।

  • कुरुक्षेत्र में पहली बार कोरोना पीडि़त गर्भवती की हुई थी डिलीवरी, डॉक्टरों की देखरेख में बच्ची
  • अभी वेंटिलेटर पर है मां, दोनों फेफडे संक्रमित

वहीं, मां जसलीन के जल्द स्वस्थ होने की दुआएं परिजन कर रहे हैं, ताकि वह स्वस्थ होकर मासूम बच्ची को सीने से लगा सके। जसलीन के पास 2 बेटियां पहले से हैं। गौरतलब है कि कोविड डेडिकेटिड श्रीबालाजी आरोग्यम में अस्पताल में जसलीन ने 6 दिन पहले बेटी को जन्म दिया था। कुरुक्षेत्र में यह पहला ऐसा केस था, जिसमें वेंटिलेटर पर रहते किसी गर्भवती की डिलीवरी हुई। यही नहीं प्री मच्यौर करीब डेढ़ महीना पहले ही डिलीवरी हुई थी।

30 वर्षीय जसलीन को परिजन 2 मई को अस्पताल लेकर पहुंचे थे। उसे कोविड के लक्षण थे। बालाजी आरोग्यम अस्पताल में उसका ऑक्सीजन लेवल 40 पर था। जसलीन को लेबर पेन हो गया, जबकि म्च्यौर डिलीवरी में डेढ़ माह बाकी था। डॉ. अनुराग कौशल के मुताबिक वेंटिलेटर सपोर्ट पर भी उसका ऑक्सीजन लेवल 80 पर था। दोनों फेफड़ों में सीटी स्कैन स्कोर 25/25 था। हालत काफी नाजुक थी।

महिला सर्जन डॉ. नेहा खानेजा और बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. तनुज की टीम ने डिलीवरी कराई। उस महिला की डिलीवरी नॉर्मल हुई। उसने बच्ची को जन्म दिया। प्री-मच्यौर होने के चलते बच्ची की तबीयत बिगड़ गई। उसे किलकारी अस्पताल में ले जाया गया। डॉ. तनुज के मुताबिक बच्ची को 2 दिन वेंटिलेटर पर रखना पड़ा।

हालांकि अब उसे वेंटिलेटर से हटा दिया है। अब उसकी हालत में सुधार हो रहा है, लेकिन उसे कुछ दिन व चिकित्सीय देखरेख में रखना पड़ेगा। उधर, मां जसलीन की हालत अब कुछ सुधरी है, लेकिन बेहोशी की हालत में वेंटिलेटर पर ही सांसें चल रही हैं। कोरोना से फेफड़ों को काफी नुकसान हुआ है। डॉ.अनुराग के मुताबिक सीटी स्कैन स्कोर 25/25 है। यह काफी खतरनाक स्थिति होती है। उम्मीद यही है कि उसकी हालत सुधरेगी। जल्द ही मां अपनी नवजात बच्ची को देख व सीने से लगा सकेगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments