Sunday, September 19, 2021
Homeदिल्लीदिल्ली : एसयूवी में लगी आग, सेंट्रल लॉकिंग की वजह से कार...

दिल्ली : एसयूवी में लगी आग, सेंट्रल लॉकिंग की वजह से कार में ही जल कर हुई मौत

नई दिल्ली . महेंद्रा पार्क इलाके के मुकरबा चौक पर गुरुवार रात चलती केयूवी-500 कार में आग लग गई। आग लगने के बाद कार का सेंट्रल लॉक ऑटोमेटिक बंद हो गया। इससे चालक बाहर नहीं निकल पाया और उसकी कार में जलकर मौत हाे गई। मृतक की पहचान अजय गुप्ता (42) के रूप में हुई है। शुरुआती जांच में पुलिस कार में शॉर्ट-सर्किट के कारण आग लगने की बात मानकर चल रही है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और घटना स्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाल कर रही है।

जब तक मदद आई पूरी तरह जल चुके थे अजय : डीसीपी विजयंता आर्य ने बताया कि अजय परिवार के साथ अलीपुर में रहते थे। गुरुवार देर रात वे इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय (आईजीआई) एयरपोर्ट के लिए रात 10.20 बजे घर महिंद्रा एसयूवी-500 कार से निकले थे। करीब 20 मिनट बाद जब वे मुकरबा चौक पर पहुंचे, तभी अचानक बीच रोड पर चलती कार में आग लग गई। आग लगने के बाद कार के सेंट्रल ऑटोमेटिक लॉक होने से गेट नहीं खुल पाए। कार बीच रोड पर जलकर खाक हो गई।

जलती कार से निकलने को शीशे तोड़ने की भरसक कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुए

 रात 10:40 बजे मुकरबा चौक पर बीच सड़क पर लगी आग : पुलिस को गुरुवार रात 10.40 बजे मुकरबा चौक पर एक कार में आग लगने की सूचना मिली थी। मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस और दमकल की 2 गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। कार से शख्स को निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। फिलहाल पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि जब वे मौके पर पहुंचे तो कार से तेज लपटें उठ रही थीं। दमकल की 2 गाड़ियों ने 15 से 20 मिनट में आग पर काबू पाया। कार की जांच करने पर ड्राइविंग सीट पर एक व्यक्ति का शव मिला। उसके अलावा उसमें कोई नहीं था। वह पूरी तरह से जल चुका था।ेे

कार के शीशे तोड़ने में अजय के हाथ में आई खरोंच के निशान मिले : पुलिस अधिकारियों का कहना है कि कार में आग लगने के बाद चालक अजय गुप्ता ने बाहर निकलने की कोशिश की थी। अजय ने कार के शीशे तोड़ने की काफी कोशिश की थी। अजय के हाथों में चोट के निशान से पता चला कि उसने शीशा तोड़ने के लिए काफी प्रयास किया था लेकिन कार के शीशे टूट नहीं पाए। इसके बाद उसकी कार के अंदर ही जलकर माैत हाे गई।

सेंट्रल लॉकिंग का दोष नहीं, इमरजेंसी से निपटने की ट्रेनिंग जरूरी : भास्कर ने ऑटो एक्सपर्ट टूटू धवन अौर अनिल चिकारा से बात की। इन दोनों ने कहा कार में आग लगना और उससे चालक के बाहर नहीं निकल पाने के पीछे सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम का दोष नहीं है। चालक को इमरजेंसी से निपटने की ट्रेनिंग नहीं दी जाती। पैनिक में चालक किन आसान तरीकों से बाहर आ सकता है, ये भूल जाता है।

रखें ख्याल :  कार खरीदने के बाद लोग कार स्टीरियो, सिक्योरिटी सिस्टम, हेड लैंप, रिवर्स पार्किंग सेंसर बाहरी दुकानों से खरीद फिट कराते हैं। कम प्रशिक्षित मेकैनिक फिटिंग करते समय तार खुले छोड़ देते हैं या ठीक से नहीं जोड़ते जिससे शॉर्ट सर्किट की आशंका रहती है। फ्री सर्विस के बाद यूं किसी भी दुकान पर सर्विस कराने की लापरवाही करने से खतरा रहता है।

कार में ये सामान रखें : 

हथौड़ी | ये आपको कार के शीशे को तोड़ने में मदद करेगा।

कैंची| सीट बेल्ट लॉक हो जाए तो कैंची से आप उसे काट सकते हैं।

अग्निशामक| कार में छोटा सा अग्निशामक आपकी मदद कर सकता है। आग लग जाए तो पानी से ना बुझाएं। शॉर्ट सर्किट हो सकता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments