Sunday, September 19, 2021
Homeटॉप न्यूज़राम मंदिर : श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक आज,...

राम मंदिर : श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक आज, मंदिर के मॉडल समेत कई मुद्दों पर फैसला संभव

नई दिल्ली. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक आज दिल्ली में होगी। इसमें मंदिर निर्माण के मॉडल समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा होगी। निर्माण कार्य के लिए टाइमलाइन भी तय की जा सकती है। एक अन्य मुद्दा आम जनता से चंदा लेने का भी है। इसके लिए उपाय खोजे जा सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 9 नवंबर को मंदिर निर्माण के पक्ष में फैसला दिया था। उसने केंद्र सरकार को मंदिर निर्माण और इसके बारे में रूपरेखा तैयार करने के लिए ट्रस्ट बनाने को कहा था। इसके पहले ट्रस्टी के. पाराशरण हैं।

मंगलवार को यूपी सरकार ने अपना चौथा बजट पेश किया है। इसमें अयोध्या में एयरपोर्ट बनाने के लिए 500 करोड़ रुपए का प्रावधान है। अयोध्या के पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित किए जाने के लिए भी राशि तय की गई है। मंदिर का एक मॉडल विहिप के पास पहले से है। बैठक में किसी अन्य मॉडल पर भी विचार किया जा सकता है।

निर्माण कार्य के दौरान प्रतिमाएं कहां रखी जाएंगी
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ट्रस्ट की बैठक में शिलान्यास के मुहूर्त से लेकर निर्माण पूर्ण होने के लिए समयसीमा निर्धारित की जा सकती है। पारदर्शी तरीके से चंदा लेने के विकल्पों पर भी विचार होगा। ट्रस्ट चाहता है कि चंदा लेने का तरीका पारदर्शी हो ताकि भविष्य में किसी प्रकार का विवाद न हो। इसका मुख्य मकसद ये है कि ‌भविष्य में किसी तरह के विवाद से बचा जा सके। निर्माण कार्य के दौरान रामलला की मूर्ति कहां रखी जाए, यह भी विचार का मुख्य बिंदू रहेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंदिर निर्माण तय समयसीमा में पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

पाराशरण के घर में ही ट्रस्ट का ऑफिस
सरकार ने अस्थायी तौर पर ट्रस्ट का ऑफिस दिल्ली के ग्रेटर कैलाश क्षेत्र में बनाया है। यह हिंदू पक्ष के वकील पाराशरण का निवास स्थान है। ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य हैं। अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के 9 नवंबर के फैसले के 88 दिन बाद सरकार ने राम मंदिर बनाने के लिए ट्रस्ट की घोषणा की थी। ट्रस्ट का नाम ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ होगा। इसी के साथ केंद्र सरकार ने अपने कब्जे की 67.703 एकड़ जमीन भी ट्रस्ट को सौंप दी है। यह पूरा इलाका मंदिर क्षेत्र होगा।

योगी सरकार ने बजट में 500 अयोध्या पर फोकस
यूपी में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार ने मंगलवार को 2020-2021 के लिए 5,12,860 करोड़ रुपए का बजट पेश किया। अयोध्या में एयरपोर्ट बनाने के लिए 500 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं। अयोध्या को पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित करने के लिए 85 करोड़ जबकि तुलसी स्मारक भवन के लिए 10 करोड़ रुपए का प्रावधान है। काशी विश्वनाथ मंदिर के सौंदर्यीकरण और विस्तार के लिए 200 करोड़ रुपए का बजट आवंटन है। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना की ओर से पेश किए गए बजट का आकार पिछले साल से 33,159 करोड़ रुपए ज्यादा है। ट्रस्ट की बैठक से पहले यूपी सरकार ने अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी और अयोध्या के डीएम अनुज कुमार को ट्रस्ट का सदस्य नामित कर दिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments