Tuesday, September 21, 2021
Homeहेल्थमसल्स को मजबूत बनाने के लिए अपनाएं ये तरीके, इन सावधानियों पर...

मसल्स को मजबूत बनाने के लिए अपनाएं ये तरीके, इन सावधानियों पर भी दें ध्यान

शरीर को मजबूत रखना है तो मसल्स यानी मांसपेशियों का मजबूत होना जरूरी है। मांसपेशियां जितनी मजबूत होंगी, शरीर उतना मजबूत रहेगा और हर तरह के काम या व्यायाम करना आसान होगा। मजबूत मांसपेशियां चोट से उबरने में अहम भूमिका निभाती हैं। मसल्स कई तरह के छोटे-छोटे काम भी करती हैं, जिनका शरीर पर बड़ा असर पड़ता है। ये कैलोरी बर्न करती हैं। इनके कारण मेटाबॉलिज्म एक्टिव रहता है, जिसके कारण इन्सान वजन कम कर पाता है। हड्डियों की मजबूती के लिए भी मसल्स का स्वस्थ्य रहना जरूरी है। ब्लड शुगर और कॉलेस्ट्राल भी मसल्स के कारण नियंत्रित रहते हैं। हार्वर्ड से जुड़े मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल के डॉ. एशले वेटर कहते हैं, मांसपेशियों की मजबूती केवल उन लोगों के लिए नहीं है जो जिन्हें अपनी फिटनेस में शौक है, बल्कि यह किसी भी व्यक्ति में अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी है, खासतौर पर बढ़ती उम्र में।

मसल्स को मजबूत रखने के तरीके
सबसे जरूरी है खानपान यानी डाइट और एक्सरसाइज का सही संतुलन। किसी प्रमाणित ट्रेनर या डॉक्टर से अपने शरीर की आवश्यकताओं और क्षमताओं के अनुसार एक प्लान बनवाएं। इस तरह आप मांसपेशियों पर अतिरिक्त तनाव डाले और लिगामेंट्स को खतरे में डाले बगैर परिणाम प्राप्त कर सकेंगे। यदि चोट से उबर रहे हैं या पुरानी किसी बीमारी से जूझ रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से फिजियोथेरेपी के बारे में पूछें।

यदि मसल्स बनाने के लिए वजन उठाने वाली मशीनों का उपयोग कर रहे हैं तो बैंड लगाना न भूलना। बाजार में तरह-तरह के बैंड उबलब्ध हैं जो ऐसा करते समय मांसपेशियों को सहारा प्रदान करते हैं। इससे अधिक ताकत और सहज मूवमेंट से एक्सरसाइज कर पाएंगे।
एक बार एक्सरसाइज के बाद मांसपेशियों को फिर से तैयार होने के लिए 48 घंटे का समय लगता है। एक ही हिस्से की मांसपेशियों पर लगातार जोर आजमाइश के बाद उन्हें रिकवर होने से लिए समय चाहिए और नींद इसी रिकवरी की एक कुंजी है। वयस्कों को हर रात सात से आठ घंटे की नींद लेना चाहिए। यह शरीर को मांसपेशियों के ऊतकों की मरम्मत करने और उनके ऊर्जा भंडार की भरपाई का काम करेगा। पर्याप्त नींद के बिना मांसपेशियों का पुनर्निर्माण नहीं होगा और उनके टूटने का खतरा बना रहेगा।

मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए स्वस्थ आहार बहुत आवश्यक है। इसका मतलब है कि आपको प्रोटीन स्रोतों, अनाज-आधारित कार्बोहाइड्रेट और फलों तथा सब्जियों वाली खुराक की जरूरत है। इसके लिए आहार विशेषज्ञ (डाइट एक्सपर्ट) से सलाह ले सकते हैं, ताकि मांसपेशियों के निर्माण और ऊर्जा को बनाए रखने के लिए जरूरी खाद्य पदार्थों का चयन किया जा सके।
मांसपेशियों को मजबूत बनाना है तो वर्कआउट तक सीमित न रहें। इसके लिए रोजमर्रा के काम का लाभ उठाएं। मसलन- हाथ की मांसपेशियों का निर्माण करने के लिए  रेफ्रिजरेटर में वापस डालने से पहले दूध के बर्तन को कुछ बार उठाएं। जब संभव हो, सीढ़ियों का उपयोग करें, इससे पैरों, कूल्हों और पेट की मांसपेशियों को बल मिलेगा। पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए फोन पर बात करते हुए चलें। लाइन में खड़े होते समय पैर उठाकर और कभी एडी तो कभी पंजे के बल खड़े रहें।

नजरअंदाज न करें मांसपेशियों में कमजोरी के इन लक्षणों को
ऊपर बताए तरीके आजमाने से आपकी मसल्स को मजबूती मिलेगी, लेकिन यदि मसल्स की कमजोरी के लक्षण लगातार सामने आ रहे हैं तो ज्यादा जोर आजमाइश करने से पहले डॉक्टर को दिखाना चाहिए। मांसपेशियों में कमजोरी के लक्षण हैं – किसी चीज को मजबूती से पकडने (ग्रिप) में दिक्कत, सांस लेने में परेशानी, चलने-फिरने में समस्या, लेटने पर सिर ऊपर न उठा पाना, मांसपेशियों में ऐंठन, बोलने-चबाने में परेशानी। कुल मिलाकर पौष्टिक आहार, अच्छी नींद और नियमित एक्सरसाइज ही मांसपेशियों की मजबूता का आधार है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments