Saturday, September 18, 2021
Homeचंडीगढ़पहली बार 24 घंटे में 8036 नए पॉजिटिव केस से ज्यादा 8446...

पहली बार 24 घंटे में 8036 नए पॉजिटिव केस से ज्यादा 8446 मरीज रिकवर हुए

सूबे में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच पहली बार मई में एक राहत की खबर मिली, हालांकि 24 घंटे में हुई 178 मौतों के सामने यह राहत कुछ कमजोर नजर आई। सूबे में मई महीने में पहली बार 24 घंटे में मिले मरीजों 8036 के मुकाबले ठीक होने वालों की संख्या 8446 ज्यादा रही। रिकवरी दर मामूली सुधार के साथ 80.8 फीसदी हो गई है। उससे भी बड़ी चिंता यह है कि 178 मरीजों की संक्रमण से जान चली गई है। सूबे में अब तक मरने वालों की संख्या 11498 हो गई है।

रिकवरी दर मामूली सुधार के साथ 80.8 फीसदी हो गई है।
  • सूबे में एक्टिव मरीजों की संख्या 80 हजार के करीब, एक्टिव दर 16.8% हुई
  • 178 ने संक्रमण से दम भी तोड़ा कुल मृतक आंकड़ा 11498 हुआ

अब तक संक्रमितों की संख्या 482379 पहुंच गई है। सूबे की एक्टिव दर 16.8 फीसदी के उच्च स्तर पर बनी हुई है। सूबे के अस्पतालों पर मरीजों का भारी बोझ है। उपचाराधीन मरीजों का आंकड़ा 80 हजार के करीब पहुंचना इसी बात की पुष्टि करता है। इस समय 79196 मरीज उपचाराधीन हैं। इनमें से 9280 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। जबिक गंभीर रुप से भर्ती 421 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। अब तक ठीक हो चुके मरीजों की कुल संख्या 393148 हो गई है।

गांवों में बढ़ते कोरोना ग्राफ के बाद सीएम बोले-

आने वाले 2 माह बेहद गंभीर, निगेटिव लोगों को ही आने दें, ठीकरी पहरे लगाएं

चडीगढ़ सीएम अमरिंदर सिंह ने शहरों के साथ-साथ गांव के लोगों से भी ऐहतियात बरतने की अपील की है। सीएम ने चिंता जाहिर की कि अब काफी मरीज लेवल 3 की स्थिति में अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। इस लिए गांव के लोग अपने गांवों में केवल उन व्यक्तियों को ही दाखिल होने दें जोकि कोरोना से संक्रमित नहीं हैं। सोशल मीडिया पर लाइव होते हुए सीएम ने अगले दो महीने ग्रामीण इलाकों में सख़्त कदम उठाने के लिए कहा। उन्होंने अगले दो महीने बेहद गंभीर बताए। सीएम ने गांवों में ठीकरी पहरे लगाने की भी अपील की।

इलाज के लिए अस्पताल जाने में देरी न करें

सीएम ने गांव के लोगों को इलाज के लिए अस्पताल जाने में देरी न करने के लिए कहा। उन्होंने कहा इलाज में देरी होने से लोगों को स्तर-3 में जाना पड़ता है। इस समय पर एल-2 के 50 प्रतिशत बेड भरे हैं, जबकि एल-3 के करीब 90 फीसदी बेड भरे हुए हैं।

अच्छे संकेत: देश में सक्रिय मरीजों की वृद्धि दर गिरकर शून्य से नीचे आई

यानी अब मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने की नौबत कम आ रही। 15 राज्यों में लॉकडाउन का असर दिखने लगा है। वृद्धि दर 3 माह पहले के स्तर पर आ गई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments