मोहम्मद कैफ ने ट्विटर पर लिखा है, “हार्दिक पांड्या ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगभग 90 के औसत से रन बनाए हैं और उन्होंने कप्तान विराट कोहली को भी पीछे छोड़ दिया है। सीमित ओवरों की क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने की वजह से अब समय आ गया है कि हार्दिक पांड्या को टेस्ट टीम में शामिल किया जाना चाहिए। उनकी शानदार फॉर्म ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ काम आएगी।” कैफ का कहना सही है, लेकिन हार्दिक पांड्या गेंदबाजी करने में उतने सक्षम नहीं हैं।

हार्दिक पांड्या की बात करें तो उन्होंने तीन मैचों की वनडे सीरीज में नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते हुए 210 रन बनाए थे। भारत की तरफ से वे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे। वहीं, टी20 सीरीज के पहले दो मुकाबलों में उन्होंने 58 रन बना दिए हैं। इससे पहले हार्दिक इंडियन प्रीमियर लीग यानी आइपीएल के 13वें सीजन में मुंबई इंडियंस का हिस्सा थे। हार्दिक ने मुंबई इंडियंस को पांचवां खिताब दिलाने में अहम योगदान अदा किया था।

उन्होंने मुंबई के लिए कुल 14 मैच खेले और 178 से ज्यादा के स्ट्राइकरेट से 281 रन बनाए। वहीं, जब उनसे ये पूछा गया कि क्या वे टेस्ट सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया में रुकने वाले हैं तो उन्होंने कहा, “यह एक अलग तरह की गेंद का खेल है, मुझे अच्छा लगेगा कि अगर मुझसे टेस्ट सीरीज के लिए यहां रुकने के लिए बोला जाता है, ये टीम मैनेजमेंट का फैसला है, मैं इसके बारे में कुछ नहीं कह सकता।” चार मैचों की टेस्ट सीरीज 17 दिसंबर से शुरू हो रही है।