Saturday, September 18, 2021
Homeपंजाबपंजाब यूनिवर्सिटी पहुंचे पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया

पंजाब यूनिवर्सिटी पहुंचे पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया

शिरोमणि अकाली दल बादल के नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया सोमवार को पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस में पहुंचे। इस दौरान उन्होंने पीयू में पिछले सीनेट चुनाव कराए जाने की मांग को लेकर 10 दिनों से धरना दे रहे पीयू स्टूडेंट्स यूनियन (पूसु) के पूर्व चेयरमैन रविंद्र सिंह उर्फ बिल्ला धालीवाल से मुलाकात की। इस मौके उन्होंने कहा कि पीयू कैंपस में स्टूडेंटस को हर तरह की सुविधा मिलनी चाहिए। उन्होंने सीनेट के इलेक्शन करवाने में की जा रही देरी पर नाराजगी जताई। उन्होंने हाथ जोड़ कर कहा कि सारे दलों के नेताओं को राजनीति से उपर उठकर पंजाब यूनिवर्सिटी के असली स्वरूप को बचाने के लिए एक बैनर के नीचे आना चाहिए।

बिक्रम सिंह मजीठिया सोमवार को पीयू पहुंचे
बिक्रम सिंह मजीठिया सोमवार को पीयू पहुंचे

मजीठिया ने कहा कि वे इस बारे में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को पत्र लिख कर यह मांग करेंगे कि पीयू में सीनेट इलेक्शन करवाने को लेकर पहल करें। मजीठिया ने कहा कि पीयू के सारे ओल्ड और अन्य स्टूडेंटस को पीयू के पुराने स्वरूप को बचाने के लिए काम करना चाहिए जिससे भविष्य में भी युवा यहां से अच्छी शिक्षा हासिल कर सके। उन्होंने कहा कि अकाली दल का बड़े से बड़ा नेता और छोटे से छोटा नेता पंजाब यूनिवर्सिटी और लोकतंत्र की रक्षा के लिए किसी प्रकार के आंदोलन के लिए हर समय तैयार है, इसके अलावा अन्य दलों के नेताओं को भी आगे आना चाहिए।

मजीठिया बोले हर संघर्ष के लिए तैयार
मजीठिया बोले हर संघर्ष के लिए तैयार

चंडीगढ़ में अलग राज्यपाल लगाने के बारे में पूछे गए सवाल पर मजीठिया ने कहा कि यह इतना आसान नहीं है कि चंडीगढ़ में अलग राज्यपाल को लगा दिया जाए। उन्होंने कहा कि पूरा चंडीगढ़ जाम हो जाएगा, अभी दिल्ली में ट्रेलर किसानों ने दिखा दिया है। अगर सरकार ने किसी तरह से इस तरह का गलत निर्णय किया तो आम लोगों का विरोध सड़कों पर दिखेगा।

सीनेट इलेक्शन की मांग को लेकर आज 10वें दिन धरना

पीयू स्टूडेंट्स यूनियन (पूसु) के पूर्व चेयरमैन रविंद्र सिंह उर्फ बिल्ला धालीवाल आज 10वें दिन भी वीसी कार्यालय के बाहर सीनेट इलेक्शन करवाने की मांग को लेकर धरने पर हैं। बिल्ला इस बार ग्रेजुएट कान्स्टीट्यूएंसी से सीनेट के इलेक्शन लड़ रहे हैं। इलेक्शन कराने और कैंपस खोलने की मांग को लेकर उनकी अपनी पूर्व यूनियन के अलावा पीएसयू ललकार, यूथ फॉर स्वराज, अंबेडकर स्टूडेंट यूनियन और सोपू से जुड़े स्टूडेंट भी धरना दे रहे हैं। पहले तो ग्रेजुएट कान्स्टीटयएंस के इलेक्शन को लेकर ही कैंपस में तनातनी चल रही थी लेकिन अब एक बार फिर वाइस चांसलर ने फैकल्टी कान्स्टीट्यूएंसी के इलेक्शन भी टाल दिए हैं। इसको लेकर भी स्टूडेंट्स में भारी रोष देखा जा रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments