पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह का आज 90वां जन्मदिन, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी बधाई

0
31

देश के आर्थिक सुधार के जनक कहे जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह का आज 90वां जन्मदिन है। मनमोहन सिंह भारत के 13वें प्रधानमंत्री होने के साथ-साथ वे एक जाने-माने अर्थशास्त्री भी हैं। मनमोहन सिंह लगातार 10 साल तक देश में प्रधानमंत्री के पद पर आसीन रहे। उनको कई आर्थिक सुधारों के लिए विश्वभर में जाना जाता है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मनमोहन सिंह को जन्मदिन की बधाई दी है और उनके लंबे और स्वस्थ जीवन की प्रार्थना की कामना की है। वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भी सोमवार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को जन्मदिन दिन की बधाई दी और सार्वजनिक जीवन में उनकी सेवा और योगदान को याद किया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी डॉक्टर मनमोहन सिंह को जन्मदिन की बधाई दी। उन्होंने लिखा कि भारत के बेहतरीन राजनेताओं में से एक, डॉ मनमोहन सिंह जी को जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। भारत के विकास में उनकी विनम्रता, समर्पण और योगदान में कुछ समानताएं हैं। वह मेरे लिए और करोड़ों अन्य भारतीयों के लिए एक प्रेरणा हैं। मैं उनके अच्छे के लिए प्रार्थना करता हूं। मनमोहन सिंह का प्रधानमंत्री का कार्यकाल 22 मई 2004 से लेकर 26 मई 2014 तक था। पंडित जवाहरलाल नेहरू के बाद मनमोहन सिंह भारत के पहले ऐसे प्रधानमंत्री बने, जिन्होंने 10 साल तक लगातार प्रधानमंत्री का पद संभाला। साथ ही मनमोहन सिंह को पहले सिख प्रधानमंत्री के रूप में भी जाना जाता है। पूर्व प्रधानमंत्री पी.वी. नरसिंह के कार्यकाल के दौरान मनमोहन सिंह वित्त मंत्री (21 जून 1991-16 मई 1996) के पद पर आसीन थे। उस दौरान हुए आर्थिक सुधारों का श्रेय मनमोहन सिंह को ही दिया जाता है। मनमोहन सिंह का जन्म ब्रिटिश भारत (वर्तमान पाकिस्तान) के पंजाब में 26 सितम्बर, 1932 को हुआ था। भारत-पाकिस्तान के विभाजन के बाद मनमोहन सिंह का परिवार भारत आ गया। मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय से स्नातक तथा स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वह कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी चले गए। वहां से उन्होंने पीएचडी की। इसके बाद उन्होंने उसी यूनिवर्सिटी से डीफिल भी किया।

मनमोहन सिंह की बुक ‘इंडियाज़ एक्सपोर्ट ट्रेंड्स एंड प्रोस्पेक्ट्स फॉर सेल्फ सस्टेंड ग्रोथ’ को भारत की व्यापार नीति की पहली और सटीक आलोचना के रूप में माना जाता है। मनमोहन सिंह ने अर्थशास्त्र के अध्यापक के रूप में काफी प्रसिद्धि हासिल की। वह पंजाब यूनिवर्सिटी और दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में प्राध्यापक भी रहे। इसी दौरान वह संयुक्त राष्ट्र व्यापार और विकास सम्मेलन सचिवालय में सलाहकार के रूप में भी कार्यरत रहे। मनमोहन सिंह को जीडीपी बढ़ाने का श्रेय प्राप्त है। मनमोहन सिंह के कार्यकाल में साल 2007 में भारत ने 9% की उच्चतम जीडीपी विकास दर हासिल की थी। इसी के साथ भारत दुनिया की दूसरी सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था के रूप में सामने आया था।मनमोहन सिंह की सरकार में विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) अधिनियम 2005 लागू किया गया था। इस एक्ट को 23 जून 2005 को तत्कालीन राष्ट्रपति के द्वारा मंज़ूरी दी गई थी। यह एक्ट 10 फरवरी 2006 को विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) नियम 2006 के साथ लागू किया गया था। मनमोहन सिंह के ही नेतृत्व में भारत सरकार ने 2005 में राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (नरेगा) की पेशकश की थी, जो एक सामाजिक सुरक्षा योजना है। इसका उद्देश्य भारत के ग्रामीण समुदायों और मजदूरों को रोजगार देना है। भारत-अमेरिका परमाणु समझौता भी मनमोहन सिंह के अहम फैसले के रूप में जाना जाता है। मनमोहन सिंह के कार्यकाल में ही भारत असैनिक परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किया गया था। भारत-अमेरिका के बीच हुए इस समझौते की रूपरेखा मनमोहन सिंह और अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश द्वारा संयुक्त बयान के अंतर्गत तैयार की गई थी। इस समझौते पर दोनों देशों ने 18 जुलाई 2005 को हस्ताक्षर किए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here