Tuesday, September 28, 2021
Homeविश्वलंदन चाकूबाजी : आतंकी उस्मान के साथ 2012 में बम धमाके की...

लंदन चाकूबाजी : आतंकी उस्मान के साथ 2012 में बम धमाके की साजिश रचने वाले 6 अन्य दोषियों को रिहा कर चुकी है सरकार

लंदन. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जाॅनसन रविवार को बताया कि आतंक से जुड़े मामलों के 74 दोषी अभी जेल से बाहर हैं। जॉनसन के मुताबिक, सरकार सभी की रिहाई की समीक्षा कर रही है। प्रधानमंत्री ने यह जानकारी ऐसे समय में दी, जब लंदन ब्रिज पर चाकूबाजी करने वाले की पहचान सजायाफ्ता आतंकी उस्मान खान के तौर पर हुई है। जॉनसन के मुताबिक, अगर आतंकी को पहले न छोड़ा जाता तो चाकूबाजी की घटना रोकी जा सकती थी। इसी बीच खुलासा हुआ है कि 2012 में उस्मान खान के साथ जिन 8 आतंकियों को लंदन स्टॉक एक्सचेंज को उड़ाने की साजिश रचने का दोषी पाया गया था, उनमें से 6 को सरकार रिहा कर चुकी है।

ब्रिटिश अखबार द सन ने रविवार को खुलासा किया कि उस्मान के अलावा दो अन्य आतंकियों ने 2013 में अपनी अनिश्चितकालीन सजा के खिलाफ अपील की थी, इसके बाद उनकी सजा को घटा कर 16 साल कर दिया गया था। तब जज ने माना था कि पकड़े गए आतंकियों को दूसरे आतंकियों से ज्यादा खतरनाक माना गया। उस्मान खान को दिसंबर 2018 में रिहा किया गया। इसके अलावा 6 अन्य को अलग-अलग समय पर पैरोल दी गई। रिपोर्ट के मुताबिक, अभी उस्मान के सिर्फ दो साथी ही जेल में बंद हैं।

अल-कायदा से जुड़े थे हमलावरों के तार
चाकूबाजी की घटना के बाद आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। हालांकि, ब्रिटिश पुलिस ने अभी उस्मान और आईएस के तारों की पुष्टि नहीं की है। इससे पहले खुलासा हुआ था कि ब्रिटेन में उस्मान अल-कायदा की विचारधारा से जुड़े गुट में शामिल था। यह गुट यूके से चरमपंथियों की भर्ती कर, उन्हें गुप्त रूप से पीओके में प्रशिक्षण देने की योजना बना रहा था। उस्मान ने अपनी साजिश की रिकॉर्डिंग भी की थी। कोर्ट ने कहा था कि हमलावरों को तब तक नहीं छोड़ा जाना चाहिए जब तक वह लोगों के लिए खतरा हैं।

यौन हिंसा-आतंकवाद से जुड़े लोग जेल से नहीं छूट पाएंगे: जाॅनसन
जॉनसन ने कहा कि सिक्योरिटी सर्विसेज दोषी रिहा किए गए आतंकियों की निगरानी बढ़ा रही है। उनके खिलाफ सही से जांच की जा रही, ताकि आगे कोई खतरा न हो। हमने पिछले 48 घंटे में काफी कदम उठाए हैं। जॉनसन ने कहा कि वे तय करेंगे कि आगे से यौन हिंसा और आतंकवाद से जुड़े अपराधियों को जल्दी जेल से न छोड़ा जाए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments