Sunday, September 19, 2021
Homeहेल्थजल्दी नहीं भरता घाव तो आजमाएं ये घरेलू तरीके

जल्दी नहीं भरता घाव तो आजमाएं ये घरेलू तरीके

शरीर में किसी भी कारण से चोट लग सकती है और घाव हो सकता है। आमतौर पर घाव अपने आप भर जाते हैं, लेकिन कई बार इनकी खास देखभाल करने की जरूरत होती है। ऐसे में कुछ घरेलू उपाय आजमा कर घाव को जल्दी से भरने में मदद की जा सकती है। डॉ. लक्ष्मीदत्त शुक्ला के अनुसार, रोजमर्रा के कामों के दौरान कट, खरोंच, चीरा, पंक्चर घाव, मामूली जलन और फोड़ा हो सकता है। इन घावों की उचित देखभाल न की जाए तो संक्रमण फैल सकता है। खासतौर पर घावों पर पानी नहीं लगने देना चाहिए।

घाव जल्दी से भरे, इसके लिए उसकी उचित देखभाल जरूरी है। घाव को गर्म पानी से साफ किया जा सकता है, लेकिन ध्यान रहे कि पानी त्वचा के अंदर नहीं जाना चाहिए। घाव साफ करने के लिए साफ रुई का इस्तेमाल करें। सामान्य घाव नारियल तेल से ठीक हो जाते हैं। इसके अलावा डॉक्टर की बताई क्रीम लगाएं। घाव पर हल्दी का लेप भी लगाया जा सकता है। नारियल के तेल में कई गुण होते हैं। यह जलन रोकता है और घाव के अंदर नमी जाने से रोकता है। यह संक्रमण को भी दूर रखता है।

घाव पर नीम का पेस्ट लगाया जा सकता है। नीम में फैटी एसिड होता है जो कोलेजन का निर्माण करता है, जिससे त्वचा का लचीलापन बना रहता है और घाव जल्दी भरता है। इसमें एंटीसेप्टिक और जलन विरोधी गुण होते हैं। इसका पेस्ट बनाने के लिए नीम का रस और हल्दी पावडर का उपयोग करें। लेप को घाव पर लगाएं कुछ घंटों तक लगा रहने दें। इसके बाद गर्म पानी से साफ कर लें। इसी तर्ज पर हल्दी के पेस्ट का इस्तेमाल किया जा सकता है। हल्दी में मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटोबायोटिक एजेंट घाव भरने में मददगार होते हैं। यदि घाव से खून बह रहा है तो हल्दी का पावडर सीधे लगाया जा सकता है। इससे खून का बहना तत्काल थम जाएगा।

इसके अलावा घावों को भरने के लिए एलोवेरा जेल का उपयोग बहुत पहले से हो रहा है। एलोवेरा में एनाल्जेसिक, सूजन विरोधी गुण होते हैं। मामूली घावों को भरने में गेंदे का फूल भी बहुत उपयोगी है। यह जड़ी-बूटी की तर्ज पर काम करता है। इसका उपयोग भी बहुत आसान है। गेंदे का कुछ फूल लें और उन्हें तोड़कर रस निकाल लें। घाव पर इस रस को दिन में 2 या 3 बार लगाएं। इससे खून का बहना बंद होगा और सूजन भी नहीं आएगी।

बहुत कम लोगों को पता है कि घाव को भरने में आलू भी बड़े काम का है। घाव के आसपास आलू का लेप लगा लें। यह चोटिल क्षेत्र को मॉइस्चराइज रखता है। कच्चे आलू को भून कर उसका पोल्टिस बनाकर घाव पर लगाएं। दो या तीन घंटे रखने के बाद घाव को गर्म पानी से साफ कर लें। कई बार घाव को ठीक करने के लिए उसे पकाने की जरूरत होती है। इसमें शहद अहम भूमिका निभाता है। घाव पर शहद की पतली परत लगाएं और कुछ घंटे रहने दें। इससे घाव पक जाएगा और उसका पल निकल जाएगा। इसी तर्ज पर सेव का सिरका का उपयोग किया ज सकता है। लैवेंडर का तेल भी घाव को तेजी से भरता है।

डॉ. लक्ष्मीदत्त शुक्ला बताते हैं, घाव को जल्दी भरना है तो अपने खानपान पर ध्यान दें। ज्यादा से ज्यादा विटामिन युक्त चीजें खाएं। अंगूर, कीवी, संतरे, ब्रोकोली, मिर्च में मौजूद विटामिन और खनीज तेजी से राहत दिलाते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments