Tuesday, September 28, 2021
Homeबिहारबिहार : राज्य में दूध 13%, मछली 15%, मांस 19% और अंडा...

बिहार : राज्य में दूध 13%, मछली 15%, मांस 19% और अंडा उत्पादन 40 प्रतिशत बढ़ी

पटना. पशु व मत्स्य संसाधन मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि राज्य में दूध, मांस, मछली और अंडा उत्पादन में वृद्धि हुई है। पशु व मत्स्यपालकों को विभिन्न योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है। राज्य में दूध उत्पादन में 13 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, जबकि मछली उत्पादन में पिछले साल 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। मांस उत्पादन में 19 और अंडा उत्पादन में सबसे अधिक 40 प्रतिशत वृद्धि हुई है। इस साल 29 हजार दुधारू पशुओं का बीमा कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पीएम पैकेज के तहत मछली उत्पादन के लिए 279.55 करोड़ की योजना है। इसमें केंद्र सरकार 102.49 करोड़, जबकि राज्य 84.14 करोड़ और शेष लाभुक 92.91 करोड़ खर्च करेंगे।

मंत्री ने कहा कि गाय के 3 हजार और भैंस बीमा के लिए 4 हजार रुपए प्रतिकिलो की दर से मूल्य निर्धारण होगा। वार्षिक बीमा प्रीमियम पशुओं के न्यूनतम मूल्य का 3 प्रतिशत होगी। एपीएल श्रेणी के पशुपालकों को बीमा प्रीमियम में 50 प्रतिशत राशि सरकार (केंद्र 25 व राज्य 25 प्रतिशत) देगी। बीपीएल और एससीएसटी के लाभुकों को बीमा प्रीमियम का 30 प्रतिशत देना है, जबकि 70 प्रतिशत सरकार देगी। दुधारू पशुपालन के लिए 50 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान है, जबकि एससी-एसटी के लाभुकों को 75 प्रतिशत अनुदान मिलेगा। इस साल 73 करोड़ की योजना है। 2 दुधारू पशु की 4224 इकाई, 4 दुधारू पशुओं 669 डेयरी इकाई, 6 दुधारू मवेशी की 411 डेयरी इकाई और 10 दुधारू मवेशी की 263 डेयरी इकाई स्थापित करने का लक्ष्य है।

बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के 15 प्रखंडों के 1216 पंचायतों में पशुओं की सुरक्षा के लिए 25 शिविर हैं। 12 एंबुलेंट्री वाहन और पशु वैज्ञानिकों को बाढ़ प्रभावित जिलों में भेजा गया है। बाढ़ ग्रस्त जिलों को 3-3 लाख रुपए की दर से चारा के लिए राशि दी गई है। शिविर में 16881 पशुओं का उपचार किया जा रहा है। राज्य के 16 सूखा प्रभावित जिलों में 220 कैटल ट्रफ (पशुओं को पानी पिलाने के लिए नाद) का निमार्ण पीएचईडी विभाग ने कराया है।

सचिव डॉ. एन विजयलक्ष्मी ने बताया कि हर साल पशुओं को बीमारी से बचाने के लिए साल में दो बार टीका लगाया जाता है। पशुओं के टीकाकरण में बिहार अगली पंक्ति में आ गया है। 4 से 8 माह के बाछी व पाड़ी को ब्रुसेलोसिस टीका लगाया जाता है, ताकि गर्भ की समस्या नहीं हो। एफएमडी का 1.65 करोड़ गाय व भैंस में टीका लगाया गया। एचएसबीक्यू का टीका लगाया जा रहा है। मछली उत्पादन 5.87 लाख टन से बढ़ कर 6.02 लाख टन हो गया है। कॉम्फेड ने 2019-20 में औसतन 19.31 लाख किलो दूध प्रतिदिन संग्रहण किया जो अब तक का सर्वाधिक है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments