Tuesday, September 28, 2021
Homeटॉप न्यूज़तालिबान की बातों पर भरोसा नहीं करता भारत

तालिबान की बातों पर भरोसा नहीं करता भारत

अफगानिस्‍तान में तालिबान की भावी सरकार को लेकर भारत समेत दूसरे देश गहन चिंतन में लगे हैं। हर देश तालिबान की मौजूदगी के हर पहलू पर विचार कर रहा है। भारत भी इस पर विचार कर रहा है। भारत पहले ही इस बात को कह चुका है कि उन्‍हें तालिबानी की कथनी और करनी पर कोई विश्‍वास नहीं है।

भारत अफगानिस्‍तान के ताजा हालात पर लगातार निगाह रखे हुए है। इस मुद्दे पर भारत लगातार विचार विमर्श भी कर रहा है। सरकार की तरफ से ये साफ किया जा चुका है कि भारत की पहली प्राथमिकता वहां से अपने नागरिकों की सुरक्षित वापसी है।

इस बारे में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने ताजा बयान में कहा है कि भारत अफगानिस्‍तान पर पूरी नजर रखे हुए है। उनकी तरफ से ये भी कहा गया है कि फिलहाल भारत का ध्‍यान अफगानिस्‍तान में मौजूद अपने नागरिकों की सुरक्षा और उनकी सुरक्षित निकासी पर है। उन्‍होंने कहा कि वहां पर संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मिशन के काम में भी परेशानी आ रही है।

भारतीय विदेश मंत्री की तरफ से कहा गया है कि अफगानिस्‍तान के मुद्दे पर उन्‍होंने अंतरराष्‍ट्रीय मंच से काफी बातचीत की है। इस संबंध में उन्‍होंने अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस से भी बात की है। इतना ही नहीं कई अन्‍य देशों के विदेश मंत्रियों के साथ भी इस मुद्दे पर बातचीत हुई है

दरअसल, तालिबान सरकार को मान्‍यता देने और न देने के पीछे कुछ बड़ी वजह हैं। आपको बता दें कि भारत ने अफगानिस्‍तान में करोड़ों डालर का निवेश किया हुआ है। तालिबान के यहां आने के बाद इस निवेश पर संकट के बादल भी मंडरा रहे हैं। वहीं ये भी स्‍पष्‍ट नहीं है कि इस पर अब आगे बढ़ा जाए या नहीं। तालिबान का रवैया भी ऐसा नहीं दिखाई देता है कि उस पर विश्‍वास किया जाए। वहीं एक बड़ी वजह ये भी है कि तालिबान एक आतंकी संगठन है जिसका अब एक राजनीतिक चेहरा सामने आया है। ऐसे में इसकी सरकार को मान्‍यता देना पूरी दुनिया में अलग-थलग होने जैसा है। ये भी तय नहीं है कि यदि ऐसा कर दिया जाए तो भी भारत के हित पूरे हो सकेंगे।

आपको बता दें कि तालिबान ने अफगानिस्‍तान पर कब्‍जे के बाद विश्‍व समुदाय के साथ चलने की बात कही है। इतना ही नहीं तालिबान ने ये भी कहा है कि वो विश्‍व के देशों के साथ बातचीत चाहता है। हालांकि उनके पुराने ढर्रे को देखते हुए अधिकतर देश उनकी बातों पर विश्‍वास नहीं कर रहे हैं। आपको यहां पर ये भी बता दें कि अफगानिस्‍तान के मुद्दे पर बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में एक बार फिर से सीसीएस की बैठक हुई थी।

इस बैठक में अफगानिस्तान के ताजा हालात से निपटने के लिए जो रणनीति पहले तय हुई थी, उसकी समीक्षा की गई है। सूत्रों की मानें तो सरकार ने अफगानिस्तान से आने वाले हिंदुओं और सिखों को तुरंत शरण देने का आदेश भी दे चुकी है। इनको बाद में नागरिकता भी दी जाएगी। सरकार ने इनके लिए वीजा के आवेदनों को प्राथमिकता के आधार पर निपटाने को भी कहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments