Sunday, September 26, 2021
Homeकोरोना अपडेटनए कोरोना मामलों में भारत विश्व में सबसे आगे, दुनिया में हर...

नए कोरोना मामलों में भारत विश्व में सबसे आगे, दुनिया में हर चार में एक संक्रमित व्यक्ति इसी देश से

भारत में कोरोना की दूसरी लहर से हालात बेकोबू होते जा रहे हैं। नए कोरोना के मामलों में भारत दुनिया में सबसे आगे है। देश के हालात इतने बुरे हैं कि दुनिया में हर चार में से एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति भारत से सामने आ रहा है। दुनियाभर के देशों में रोजाना मिलने वाले कोरोना मरीजों की संख्या की लिस्ट में भारत सबसे आगे है। भारत में कोरोना के एक दिन में करीब 3 लाख मामले सामने आ रहे हैं। पिछले साल अक्टूबर के बाद से ये पहला मौका है जब दुनियाभर के देशों में से भारत में एक दिन के कोरोना संक्रमण के मामले सबसे अधिक थे।

भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर अत्यधिक गंभीर होती जा रही है। मंगलवार देर रात तक मिले आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान 294115 नए मामले मिले हैं और 2020 लोगों की मौत हुई है। महाराष्ट्र यूपी और दिल्ली के हालात चिंताजनक हैं।

भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर अत्यधिक गंभीर होती जा रही है। देश में बीते 24 घंटों में पहली बार 2.94 लाख नए मामले सामने आए हैं और दो हजार से ज्यादा मौतें हुई हैं। महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में हालात बेहद चिंताजनक होते जा रहे हैं। मंगलवार देर रात तक मिले आंक़़डों के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान 2,94,115 नए मामले मिले हैं, 1,66,520 मरीज ठीक हुए हैं और 2,020 लोगों की मौत हुई है

भारत प्रतिदिन दुनियाभर में होने वाले नए संक्रमणों की औसत संख्या में सबसे आगे है। दुनिया में हर चार संक्रमणों में से एक यहीं से सामने आ रहे हैं। भारत में कुल संक्रमणों की संख्या अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है। विशेषज्ञों ने कोरोना के नए वेरिएंट को इसका दोषी बताया है। सरकार ने शारीरिक दूरी का अभ्यास करने में विफलता को दोषी ठहराया है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने अस्पतालों को पहले की तुलना में बहुत तेजी से हिला दिया है। महामारी विज्ञानियों और डॉक्टरों का कहना है कि वायरस में म्यूटेशन का मतलब है कि प्रत्येक मरीज पहले की तुलना में कई अधिक लोगों को संक्रमित कर रहा है।

कोरोना की दूसरी लहर में नए मामलों में बड़ी तेजी के साथ देश भर में अस्पतालों में बाढ़ आ गई है। प्रमुख शहर, जिनमें तुलनात्मक रूप से बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध है और कोरोना की जांच का दबाव का सामना करने में असमर्थ हैं। बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर और ड्रग्स की कमी के बारे में शिकायत करने वाले लोगों और हेल्पलाइन नंबरों को प्रसारित करने वाले नागरिक समूहों और स्वयंसेवा समर्थन करने वालों सोशल मीडिया पर बाढ़ आ गई है।

बढ़ते संक्रमण के बावजूद, राजनेताओं ने राज्य चुनावों के लिए देश भर में बड़े पैमाने पर रैलियां जारी रखीं हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयम बरतने का आह्वान करते हुए ट्विटर पर कहा कि त्योहार को “प्रतीकात्मक” रखा जाना चाहिए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments