Saturday, September 18, 2021
Homeहेल्थकोरोना वायरस से बचना है तो खुले रखिए दरवाजे और खिड़कियां

कोरोना वायरस से बचना है तो खुले रखिए दरवाजे और खिड़कियां

कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया में खौफ कायम है। चीन में अब तक 1700 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच जानकारों ने इस खतरनाक बीमारी से बचने का एक और उपाय बताया है। उनका कहना है कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकना है तो घर के दरवाजे और खिलड़ियां खुली रखिए। सिंगापुर में चीफ हेल्थ साइंटिस्ट चोर्थ चुहान के मुताबिक, लोगों को एसी बंद करके ताजी हवा में सांस लेना चाहिए। ताजी हवा में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ने का खतरा कम हो जाता है।

शुरू में जब कोरोना वायरस के फैलने की खबर आई थी तब वैज्ञानिकों को भी इसके बारे में अधिक जानकारी नहीं थी। पहले के अध्ययनों के आधार पर द स्ट्रेट टाइम्स की रिपोर्ट में बताया गया कि कोरोना वायरस ठंडे और शुष्क मौसम में पनपता है। वहीं अधिकांश अध्ययनों से यह संकेत भी मिलता है कि यह वायरस गर्म (30 डिग्री सेल्सियस से अधिक), नम वातावरण (80 प्रतिशत से अधिक नमी) में जीवित नहीं रहता है।

एम्स के डॉ. अजय मोहन के अनुसार, सर्दी जुकाम की तरह कोरोना वायरस भी तेजी से फैलता है। संक्रमित व्यक्ति के छींकने, खांसने और बोलने के दौरान यह संक्रमण तेजी से फैलता है।

कोरोना वायरस से बचने के लिए सलाह दी जाती है कि व्यक्ति साफ-सफाई के साथ ही अपने खानपान का ख्याल रखे। जो लोग पौष्टिक आहार खाते हैं और नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, उन पर इसका तत्काल असर नहीं होता है। वहीं जिन लोगों की रोगों से लड़ने की ताकत कमजोर है, वो इस बीमारी की चपेट में जल्दी आते हैं।

डॉ. अजय मोहन के अनुसार, यदि गले में दर्द, छींक आना, नाक बहना, लगातार सिर दर्द रहना, सूखी खांसी, हल्का बुखार, कमजोरी और बदन दर्द इस बीमारी के सामान्य लक्षण हैं। यदि घरेलू इलाज और दो से तीन दिन के बाद भी ये लक्षण दूर नहीं होते हैं तो तत्काल डॉक्टर को दिखाएं। यदि घर से बाहर जा रहे हैं, तो मास्क जरूर पहनें। खासतौर पर सार्वजनिक स्थानों से आने के बाद हाथों की अच्छी तरह सफाई करें। नॉनवेज से दूर रहें, क्योंकि अधपके मांसाहार से यह बीमारी तेजी से फैल सकती है।

ध्यान रहे, अब तक कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं खोजा सका है। दुनियाभर के वैज्ञानिक इसका टीका खोजने में लगे हैं। अब तक डॉक्टर लक्षणों का इलाज कर रहे हैं। जैसे सर्दी-जुकाम और बुखार कम करने के उपाय किए जा रहे हैं और मरीजों को अलग रखा जा सकता है, ताकि संक्रमण दूसरे लोगों में न फैले। हालांकि, थाइलैंड के डॉक्टरों का दावा है कि उन्होंने कोरोना वायरस को काबू करने वाला एंटीडोट खोज निकाला है। इसकी मदद से 71 साल की एक महिला को स्वस्थ्य कर दिया गया है।

पालतु पशुओं का भी ख्याल जरूरी
इंसानों के अलावा कोरोना वायरस जानवरों जैसे सूअर, बिल्लियों, कुत्तों और पक्षियों पर अपना असर दिखा सकता है। इसलिए अपने पालतू पशु और पक्षियों पर भी नजर रखें। उनमें कोई लक्षण नजर आए तो इलाज जरूर करवाएं। साथ ही सलाह दी जा रही है कि गाय और भैंस के दूध को भी अच्छी तरह उबालने के बाद ही उपयोग करें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments