जाने- चाय को एक बार, दो बार या तीन बार कितनी बार उबालना चाहिए

0
72

चाय का सेवन वैसे 12 महीने किया जाता है लेकिन, अगर मौसम ठंड का हो तो इसका सेवन और बढ़ जाता है. सर्दियों में लोग अन्य मौसम की तुलना में ज्यादा चाय पीते हैं. भारत में पानी के बाद जिस तरल पदार्थ का सबसे ज्यादा लोग सेवन करते हैं वो है चाय. यदि सुबह-सुबह आपको अच्छी चाय मिल जाए तो आपका पूरा दिन बन जाता है. एक कड़क और स्वादिष्ट चाय आपको पूरा दिन एनर्जेटिक फील करवाती है.चाय लोग अलग-अलग तरीके से बनाते हैं और सबका अपना-अपना टेस्ट होता है. अक्सर लोगों के मन में चाय को लेकर एक सवाल रहता है कि चाय को कितनी बार उबाला जाए जिससे वह अच्छी बने. हालांकि ये निर्भर करता है कि आप कौन-सी चाय बना रहे हैं. कुछ लोग बिना दूध वाली चाय पीते हैं, तो कुछ दूध के साथ तो वहीं, कुछ ग्रीन टी पीते हैं.

एक अच्छी और कड़क चाय के लिए दूध डालने के बाद इसे 2 से 3 मिनट तक उबालें. अगर आप इससे ज्यादा बार चाय को उबालेंगे तो इससे चाय का स्वाद कड़वा हो जाएगा. ध्यान रखें अगर दूध भी गर्म है तो ये समय और कम हो जाएगा. यानि फिर आपको केवल 1 से 2 उबाल ही चाय में आने देना है.  अगर आप बिना दूध की चाय बना रहे हैं तो इसे केवल 2 से 3 मिनट तक उबालें. ऐसा ही कुछ ग्रीन टी के साथ भी है. अगर आप ग्रीन टी को ज्यादा देर तक उबालते हैं तो इससे इसका स्वाद खराब होता है.

ब्रिटिश स्टैंडर्ड इंस्टिट्यूशन ने चाय बनाने का आइडियल तरीका बताया है जिसे सबसे सही तरीका माना गया है. इसके लिए सबसे पहले एक बर्तन में सिर्फ दूध उबालें और एक बर्तन में पानी रख दें. पानी की मात्रा दूध के बराबर मात्रा में होनी चाहिए या थोड़ा कम हो सकती है. जब पानी गर्म हो जाए तो उसमें चाय पत्ती डालें. चाय पत्ती की मात्रा चीनी की मात्रा से कम होनी चाहिए. चाय जब अच्छे से उबल जाए तो इसमें चीनी डाल दें. इसके बाद अपने स्वाद अनुसार अदरक, लॉन्ग, काली मिर्च डालें. हालांकि सामान्य चाय में इसकी आवश्यकता नहीं है. दूसरी तरफ, दूध को भी अच्छे से उबालें और बीच-बीच में हिलाते रहें. चाय जब अच्छे से उबल जाए तो उबले हुए दूध को इसमें मिला दें. ध्यान रखें दूध मिलाने के बाद केवल एक उबाल दें और उसे छान ले. ध्यान रखें आपको पानी की मात्रा के हिसाब से ही दूध डालना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here